Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

कब तक परिषद पर भारी रहेंगे प्रभारी सीएमओ

0 16

पिछले पांच साल से चल रही है यहां कामचलाउ व्यवस्था

उचेहरा। किसी भी नगर परिषद सीमा में सबसे महत्वपूर्ण पद सीएमओ का होता है, अगर ऐसे में राजनैतिक हस्तक्षेप के कारण परिषद में सीएमओ की कुर्सी को लेकर लापरवाही बरतने का सिलसिला शुरू हो जाता है तो फिर आम जनता से संबंधित तमाम आवश्यक व्यवस्थाएं बेपटरी हो जाती है।

सतना जिले में उचेहरा तहसील का विशेष महत्व होता है। नगर परिषद उचेहरा पर भी आम जनता से जुड़ी मूलभूत सुविधाओं को जन जन तक पहुंचाने की जिम्मेदारी रहती है। मध्य प्रदेश शासन में बैठने वाले अधिकारियों की राजनैतिक दोस्ती का असर पूरे सिस्टम को झेलना पड़ता है। स्थानीय लोगों ने बताया कि लगातार नियमित सीएमओ को पदस्थ करने की मांग उठाई जा रही है इसके बाद भी शासन स्तर पर दायित्वों का निर्वहन करने वाले जिम्मेदार अधिकारी ही सतना जिले की महत्वपूर्ण नगर परिषद उचेहरा को लेकर लीपापोती और लापरवाही बरतने के आदी हो गए हैं। सूत्रों ने बताया कि नगर परिषद उचेहरा में बैसाखी के सहारे चलने वाली व्यवस्था राम भरोसे नजर आने लगती हैं, जिसका दंश केवल नगर परिषद क्षेत्र में रहने वाली जनता को झेलना पड़ता है। पिछले पांच साल से उचेहरा नगर परिषद में प्रभारी सीएमओ को ढोने का सिस्टम बना हुआ है। जिसके कारण आम जनता से संबंधित तमाम व्यवस्थाएं बाधित रहती हैं।

सूत्रों ने बताया कि जब तक नगर परिषद उचेहरा में कामचलाउ व्यवस्था संचालित रहेगी तब तक जनमानस तक आसानी के साथ शासन की सभी सुविधाएं पहुंचना संभव नहीं है। राजस्व के मामले में नंबर वन नगर परिषद उचेहरा है, इसके बाद भी शासन यहां पर परमानेंट सीएमओ की तैनाती नहीं कर रहा है। नगर परिषद उचेहरा में पिछले पांच साल से जन समस्याओं का सिलसिला निरंतर बढ़ रहा है, कामचलाउ सीएमओ तैनात रहने के कारण जन समस्याओं का तत्परता के साथ समाधान नहीं हो पाता है। अक्सर नगर परिषद उचेहरा के क्षेत्र में रहने वाली जनता को पानी निकासी के इंतजाम शत प्रतिशत न होने, आवश्यकता अनुसार पेयजल आपूर्ति व्यवस्था के लिए पाइप लाइन का विस्तार न होने के कारण आम जनता परेशानी झेलने को मजबूर होती है।

नगर परिषद में बदलाव, प्रभारी के तौर पर शैलेन्द्र आए
सतना जिले की नगर परिषद उचेहरा में प्रभारी सीएमओ का दौर निरंतर जारी है। पिछले पांच सालों से परमानेंट सीएमओ का केवल सपना दिखाया जा रहा है। एक बार फिर नगर परिषद उचेहरा में सीएमओ को लेकर शासन ने बदलाव किया है। उचेहरा नगर परिषद के प्रभारी सीएमओ केपी सिंह का तबादला कर दिया गया है, उनके स्थान पर मैहर में तैनात शैलेन्द्र सिंह को उचेहरा नगर परिषद का नया प्रभारी सीएमओ बनाया गया है। सहायक राजस्व निरीक्षक को प्रभारी सीएमओ का दायित्व सौंप कर नगर परिषद संचालित कराई जाती है। बताया जाता है कि पांच साल पहले नगर परिषद उचेहरा में परमानेंट सीएमओ के तौर पर शैलेन्द्र ओझा तैनात रहे हैं। इसके बाद से लगातार नगर परिषद सीएमओ जैसी महत्वपूर्ण कुर्सी पर प्रभारी की तैनाती वाली व्यवस्था बनाई गई है, जिस पर लगाम नहीं लग रही है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.