Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

कुछ ही दिनों में शनि चलेंगे उल्टी चाल: करे ये उपाय

0 40

मकर, धनु, कुंभ, मिथुन इन राशि वाले जातक करे शनि की आराधना


सूर्यपुत्र शनिदेव 11 मई को अपनी वक्री चाल चलेंगे यानी कि उल्टी चाल, 24 जनवरी 2020 में शनिदेव का मकर में गोचर हुआ था और अब 11 मई 2020 से उल्टी चाल चलेंगे, शनि की ये चाल ज्योतिष अनुसार अच्छी नहीं मानी जाती है, शनि की उल्टी चाल खासकर उन लोगों को परेशान करती है, जिन पर शनि की साढ़े साती (Shani Sade Sati) या फिर ढैय्या (Shani Dhaiya) चल रही हो, लेकिन ऐसा भी नहीं है कि शनि की उल्टी चाल परेशान ही करें, अगर शनि आपकी कुंडली में मजबूत स्थिति में विराजमान हैं तो आपको शनि की इस अवस्था में भी लाभ ही प्राप्त होगा।
इन पांच राशियों के जातक करे मंत्र जाप ओर पूजन
१:-तुला राशि आपके ऊपर शनि की ढैय्या चल रही है, इसलिए वक्री शनि आपके कष्ट बढ़ा सकता है, व्यापार में आपको हानि का सामना करना पड़ सकता है, वहीं, निवेश करने के लिए समय ठीक नहीं है, शनि के वक्री होने से माता से मतभेद हो सकता है, मानसिक स्थिति कमजोर रहेगी, वाद विवादों से बचने की जरूरत है।
२:- मकर राशि:- आप पर शनि की साढ़े साती का दूसरा चरण चल रहा है, जो आपको मानसिक कष्ट देगा, आप इस दौरान गलत निर्णय ले सकते हैं, व्यापार में हानि उठानी पड़ सकती है, आपको अपनी सूझबूझ से काम लेने की जरूरत है, सेहत का ध्यान रखें।
३:-धनु राशि:- आपके ऊपर शनि साढ़े साती का आखिरी चरण चल रहा है, हालांकि ये चरण जाते जाते कुछ न कुछ अच्छा देकर ही जाता है, शनि के वक्री होने से आपको व्यापार में अधिक संघर्ष करना पड़ेगा, आर्थिक स्थिति कमजोर रहने से आप परेशान रहेंगे, आपको इस दौरान बेहद ही संयम से काम लेना होगा।
४:-कुंभ राशि:- आपके ऊपर शनि साढ़े साती का पहला चरण शुरू हुआ है और शनि का वक्री होना आपके लिए परेशानी भरा रहने वाला है, शनि की उल्टी चाल से आपके कष्टों में बढ़ोतरी होगी, व्यवसाय में कोई भी बड़ा निवेश सोच समझकर ही करें।
५:-मिथुन राशि:- आपके ऊपर शनि की ढैय्या चल रही है, वक्री शनि आपकी आर्थिक स्थिति बिगाड़ सकता है, अचानक अप्रिय घटनाएं घटित होने लगेंगी, कार्यक्षेत्र में प्रमोशन होने में देरी होगी, धन से जुड़े कार्यों को सावधानी के साथ करें नहीं तो हानि हो सकती है, खुद को आप भ्रमित महसूस कर सकते हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.