Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

कॉलेज प्रबंधन विद्यार्थियों का कर रहा है शोषण

0 36

रीवा। कोरोना संक्रमण के बजह से प्रदेश सरकार ने सभी कालेज के विद्यार्थियों को जनरल प्रमोसन देने का किये आदेश जारी।इसके बावजूद जवा कालेज में बीएससी कामेस्टी के छात्रों से प्रैक्टिकल के नाम से बसूले गये चार -चार हजार रूपये।

गरीब अभिभावक हो रहे परेसान

 मनमानी में उतारू हुए कालेज के प्रबंधक। गौरतलब है कि स्कूल या कालेज एक ऐसी जगह है जहाँ पर अमीर से लेकर गरीब तक के छात्र विद्या अध्ययन कर देश के कर्णधार बनेगे।  स्कूल या कालेजो में किसी  तरह का भ्रस्टाचार नही किया जा सकता है और शिक्षक भी यही पढ़ाते है कि कभी गलत कार्य या भ्रस्टाचार न करे और ईमानदारी से कार्य करते हुए देश का नाम रोशन करे, तथा गलत कार्य करने वालो के खिलाफ आवाज उठानी चाहिये।लेकिन आज जितने भी स्कूल एवं कालेजो खुले है वो सिर्फ शिक्षा के नाम पर भ्रस्टाचार कर अपनी जेबे भरने का कार्य कर रहे है जहाँ पर एक रिपोर्ट के अनुसार सबसे बड़ा भ्रस्टाचार का केंद्र शिक्षा सदन ही है आज पढ़ाई के नाम पर छात्रों एवं अभिभावकों से डिग्री देने  के नाम पर मोटी रकम बसुली जा रही है लेकिन पढ़ाई  कैसी होती है ये  जग जाहिर है।जो आज सही सावित हो रहा है जहा शिक्षा कम भ्रस्टाचार का पाठ ज्यादा पढ़ाया जा रहा है।इसी तरह का मामला जवा के ईस्वरचंद्र विद्यासागर कालेज का आया है   जहां पर सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बीएससी के छात्रों से कामेस्टी के प्रैक्टिकल के नाम पर चार-चार हजार रूपये बसूला गया है  और कहा गया कि यदि पैसे नही दिया गया तो प्रैक्टिकल में कम नंबर देकर रिजल्ट खराब कर दिया जायेगा उसी बजह से मजबूरन छात्रों को पैसा देने के लिए बाध्य होना पड़ा। जहा इस कोरोना जैसे महामारी के संकट की घड़ी में अभिभावक परेसान है और दुःख भी व्यक्त किए कि  कोरोना जैसे महामारी से सारे रोजगार धंधे चौपट हो गए है  और नौकरी करने वालो के बेतन न मिलने से पैसो के लाले पड़े है।फिर भी बच्चों के कहने पर पैसो की व्यबस्था करके दिया गया जो अनुचित है 
एक ओर जहां प्रदेश सरकार कोराेना के चलते पूरे प्रदेश के कालेज और विद्यालयों  के छात्रों को जनरल प्रमोसन देने के आदेश जारी किए है फिर भी जवा के ईश्वर चन्द्र विद्यासागर  कालेज के प्रबंधक के पेट नहीं भर रहा है और प्रदेश सरकार के आदेशों का अबहेलना करते हुए छात्रों से मोटी रकम वसूली गई।जिसकी शिकायत छात्रों द्वारा जिला कलेक्टर रीवा से करने की तैयारी की जा रही है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.