Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण पाने कलेक्टर ने अधिकारियों को दिए विस्तृत निर्देश

0 20

क्वारेंटाईन का उल्लंघन करने वालों पर करें सख्त कार्यवाही: हर्षिका सिंह

मण्डला। जिले में कोरोना संक्रमण की बढ़ती संख्या को ध्यान में रखते हुए कलेक्टर हर्षिका सिंह ने बाहर से आए प्रत्येक व्यक्तियों की स्क्रीनिंग, सेम्पलिंग तथा उन्हें क्वारेंटाईन किए जाने के संबंध में विस्तृत आदेश जारी किए हैं।
जारी आदेश में कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी हर्षिका सिंह ने निर्देशित किया है कि जिले की किसी भी पंचायत में बाहर से आने वाले व्यक्तियों की सूचना अनिवार्यतः संबंधित जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को दी जाए एवं बाहर से आने वाले प्रत्येक व्यक्ति को होम क्वारंटाइन अथवा इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन में रखा जाए। संबंधित पंचायत के सरपंच, ग्राम पंचायत के सदस्य गण, सचिव, पटवारी, पी0सी0ओ0 एवं ग्राम कोटवार की जिम्मेवारी होगी कि वे बाहर से आए प्रत्येक व्यक्ति के द्वारा क्वारंटाइन कराएं। क्वारंटाइन में रखे गए व्यक्तियों के द्वारा यदि क्वारंटाइन का पालन नहीं किया जा रहा है तो उक्त समिति के द्वारा दो हजार रूपये की चालानी कार्यवाही भी की जाए साथ ही ऐसे लोगों के विरूद्ध डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट के अंतर्गत उस क्षेत्र के इंसीडेंट कमांडर जो कि मण्डला जिले में सभी अनुविभागीय दंडाधिकारी नामांकित किए गए हैं, को सूचना दी जाए ताकि वे नियमानुसार उनके विरूद्ध कार्यवाही की जा सके। कलेक्टर ने सभी खंड चिकित्सा अधिकारियों को निर्देशित किया है कि वे अपने क्षेत्रांतर्गत बाहर से आए व्यक्तियों का सतत स्वास्थ्य परीक्षण एवं निगरानी करें तथा नियमानुसार सेम्पलिंग आदि की कार्यवाही भी सुनिश्चित करें तथा प्रत्येक दिवस ग्राम पंचायत में बाहर से आए व्यक्ति के स्वास्थ्य परीक्षण संबंधी सूची कंपाईल कर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत को उपलब्ध करायें। मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत द्वारा खंड चिकित्सा अधिकारी से प्राप्त सूची मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत को उपलब्ध कराएंगे। कलेक्टर हर्षिका सिंह ने निर्देशित किया कि मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत प्राप्त सूची अनुसार जानकारी की एक एक्सल शीट बनवाई जाएगी जिसमें बाहर से आने वाले व्यक्ति का नाम, किस जिले से आ रहा है उसका नाम, यात्रा का विवरण, होम क्वारंटाइन किया गया है अथवा इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन, कोविड सेंपलिग की गई है या नहीं आदि की जिले भर की जानकारी से प्रत्येक दिवस सायं 6 बजे तक उन्हें उपलब्ध कराई जाए। विभिन्न क्षेत्रों के लिए सेक्टर अधिकारियों की भी ड्यूटी लगाई गई है। उन्होंने सेक्टर अधिकारियों को निर्देशित किया है कि वे उनके क्षेत्रांतर्गत बाहर से आए व्यक्तियों की सूची संधारित करें तथा होम क्वारंटाइन या इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन किए गए व्यक्तियों से क्वारंटाइन का पालन करायें तथा यदि कोई पॉजीटिव केश उनके क्षेत्रांतर्गत पाया जाता है तो स्वास्थ्य विभाग एवं आर0आर0टी एवं एमएमयू टीम से समन्वय कर प्रोटोकाल अनुसार कार्यवाही सुनिश्चित करें। कोविड-19 के संक्रमण से बचाव हेतु मॉस्क का उपयोग एवं सोशल डिस्टेंशिंग का पालन इत्यादि किए जाने हेतु सभी इंसीडेंट कमांडर अपने क्षेत्रांतर्गत कार्यवाही सुनिश्चित कराएं। श्रीमती सिंह ने नगरीय निकाय के सभी मुख्य नगरपालिका अधिकारियों को निर्देशित किया है कि वे अपने निकाय अंतर्गत बाहर से आने वाले व्यक्तियों की प्रत्येक दिवस की वार्डवार सूची संधारित करायें। उन्होंने निर्देशित किया कि संबंधित वार्ड के पार्षद तथा वार्ड प्रभारी का सहयोग लिया जाए तथा प्रत्येक दिवस बाहर से आने वाले लोगों को होम क्वारंटाइन अथवा इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन में रखा जाए तथा बाहर से आने वाले सभी व्यक्तियों की सूची कंपाइल कर परियोजना अधिकारी जिला शहरी विकास अभिकरण प्रत्येक दिवस सायं 6 बजे तक उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। मुख्य चिकित्सा अधिकारी, सिविल सर्जन एवं कोराना के प्रभारी अधिकारी सुनिश्चित करेंगे कि जिले में बाहर से आने वाले व्यक्तियों का आई0सी0एम0आर0 के प्रोटोकाल अनुसार उनकी सेम्पलिंग की कार्यवाही की जाए तथा सेंपलिंग लिए गए व्यक्तियों को होम क्वारंटाइन अथवा इंस्टीट्यूशल क्वारंटाइन में रखा जाए। सभी अनुविभागीय दंडाधिकारी मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत एवं खंड चिकित्सा अधिकारी अपने क्षेत्र में रखे गए सभी होम क्वारेंटाईन व्यक्तियों को सार्थक लाईट ऐप्प से ऐड करायें तथा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी से सामंजस्य करते हुए सभी व्यक्तियों के मोबाइल नंबर टेली मेडीसन सेंटर को उपलब्ध करायें। टेली मेडीसन सेंटर के माध्यम से बाहर से आने वाले व्यक्तियों से अनिवार्यतः फोन के माध्यम से उनके स्वास्थ्य संबंधी विषय पर जानकारी ली जाए तथा इस संबंध में रिकार्ड भी संधारित कराए जाएं। कलेक्टर ने निर्देशित किया कि सभी अनुविभागीय दंडाधिकारी मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत एवं मुख्य नगरपालिका अधिकारी अपने-अपने क्षेत्र में मॉस्क के इस्तेमाल, सोशल डिस्टेंशिंग का पालन किए जाने हेतु पब्लिक अनाउंसमेंट सिस्टम अन्य अनाउंसिंग सिस्टम का उपयोग कराते हुए मुनादी इत्यादि करायेंगे तथा इसके उपयोग हेतु भी लोगों को जागरूक करते रहें। समय-समय पर अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक से सामंजस्य स्थापित करते हुए कार्यपालिक मजिस्ट्रेट एवं पुलिस के माध्यम से कोविड संक्रमण के बचाव हेतु विभिन्न विषयों पर फुट पेट्रोलिंग कराना सुनिश्चित करायें। कलेक्टर ने उक्त निर्देशों का कड़ाई से पालन करते हुए निर्धारित समयावधि में वांछित रिपोर्ट भेजने के निर्देश दिए हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.