Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

नवागत कलेक्टर संजीव श्रीवास्तव ने किया कार्यभार ग्रहण

0 40

उमरिया।नवागत कलेक्टर उमरिया संजीव श्रीवास्तव ने आज 27 मई 2020 को विधिवत कार्य भार ग्रहण कर लिया है। कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी उमरिया से संबंधित नाम से भेजे जाने वाले गोपनीय एवं अर्द्ध शासकीय पत्र आदि नये कलेक्टर के नाम से भेजने हेतु कहा गया है। कार्यालय का दूरभाष नंबर 07653-222600,निवास का नंबर 07653-222700, फैक्स नंबर 07653-222106 है। कलेक्टर संजीव श्रीवास्तव ने बताया कि शासन की योजनाओें का लाभ अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाना तथा कोरोना संक्रमण में शीघ्र नियंत्रण प्राथमिकता होगी।


कलेक्टर द्वारा कोरोना संक्रमण नियंत्रण की व्यवस्थाओं की समीक्षा
फोटो 2
उमरिया 27 मई – नवागत कलेकटर संजीव श्रीवास्तव ने आज कलेक्ट्रेट सभागार में उमरिया जिले में कोरोना संक्रमण को रोकने हेतु की गई विभिन्न व्यवस्थाओं की समीक्षा की। बैठक में एसडीएम पाली एवं मानपुर नीलमणि अग्निहोत्री , एसडीएम बांधवगढ अनुराग सिंह तथा सहायक आयुक्त आदिवासी विकास उपस्थित रहे।
कलेक्टर ने जिलें में कोरोना संक्रमण से प्रभावित व्यक्तियों की संख्या तथा संबंधित क्षेत्र में कोरोना संक्रमण को रोकने हेतु कंटेनमेंट क्षेत्रों में की गई व्यवस्थाओं की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने जिले मे ंआने वाले प्रवासी श्रमिकों के स्वास्थ्य परीक्षण , स्क्रीनिंग तथा उन्हें 14 दिनों तक क्वारेंटाईन करने की व्यवस्था पर चर्चा की। एसडीएम पाली एवं मानपुर नीलमणि अग्निहोत्री ने बताया कि पाली तहसील में मालाचुआ में तथा मानपुर जनपद मुख्यालय तथा ग्राम कुसमहा में कोरोना पाजीटिव संक्रमित व्यक्तियों की पहचान हुई है। इन सभी जगहों को कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित किया गया है तथा भारत सरकार एवं मध्यप्रदेश सरकार द्वारा जारी एसओपी के अनुसार सभी आवश्यक व्यवस्थाएं की गई है। ंसबंधित क्षेत्रों में स्वास्थ्य विभाग के दल द्वारा घर घर स्क्रीनिंग एवं काउंसलिंग का कार्य किया जा रहा है। प्रतिबंधित क्षेत्र में आवागमन पूर्णतः प्रतिबंधित कर दिया गया है। संबंधित ग्राम पंचायतों के माध्यम से लोगों को दैनिक आवश्यकताओ की पूर्ति की जा रही है।
एसडीएम बांधवगढ़ अनुराग सिंह ने बताया कि जिले में अभी तक 8 हजार से अधिक प्रवासी श्रमिक उमरिया लौटे है। प्रवासी श्रमिकों के स्वास्थ्य परीक्षण , स्क्रीनिंग तथा रूकनें एवं भोजन की व्यवस्था स्थानीय डाईट में की गई है। स्वास्थ्य परीक्षण में चिकित्सकों की सलाह पर संस्थागत क्वारेंटाईन करनें की व्यवस्था जिला मुख्यालय में पिछडा वर्ग छा़त्रावास , पाली में कन्या शिक्षा परिसर छात्रावास तथा मानपुर में छात्रावास में की गई है। इसके अतिरिक्त शेष प्रवासी श्रमिकोें को होम क्वारेटाईन करनें की सलाह दी जा रही है।
जिला मुख्यालय से प्रवासी श्रमिकों को उनके गृह ग्राम तक छोडने की व्यवस्था जिला प्रशासन द्वारा की जा रही है। जिला मुख्यालय सहित जिले के अन्य तहसील मुख्यालयों में प्रवासी श्रमिकों के लिए सहायता केंद्र संचालित किए जा रहे है।
क्र0425
जिले में 89 किसानांे से 99 मीट्रिक टन चना एवं मसूर की खरीदी
उमरिया 27 मई – जिला आपूर्ति अधिकारी बी एस परिहार ने बताया है कि जिले में चना, मसूर एवं सरसों के उपार्जन के तहत 89 किसानों से 99.4 मीट्रिक टन खरीदी की गई है, जिसमें चना की खरीदी 94 मीट्रिक टन तथा मसूर की खरीदी 5.4 मीट्रिक टन शामिल है। किसानों के खाते में 70 लाख रूपये की राशि जमा कराई गई है।
क्र0426

हायर सेकेण्डरी परीक्षा के आयोजन हेतु जिले में 46 परीक्षा केंद्र बनाये गये
उमरिया 27 मई – जिला शिक्षा अधिकारी उमेश कुमार धुर्वे ने बताया कि माध्यमिक शिक्षा मण्डल भोपाल द्वारा 9 जून से आयोजित होने वाली शेष बचे प्रश्न पत्रों की हायर सेकेण्डरी परीक्षा के आयोजन हेतु जिले में 46 परीक्षा केंद्र बनाये गये है।
उन्होने बताया कि परीक्षा केंद्रो में शा. सज्जन उ.मा. उत्कृष्ट विद्यालय, उमरिया , शा.उ.मा.वि., चौरी शा. कन्या उ.मा.वि., उमरिया , शा. उ.मा.वि., करकेली , शा. कन्या उ.मा.वि., बिरसिंहपुर पाली , शा. कन्या उ.मा.वि., चंदिया , शा. उ.मा.वि., शाहपुर , शा. बालक उ.मा.वि., बीरसिंहपुर पाली , शा. बालक उ.मा.वि. . चंदिया , शा. उ.मा.वि., अखडार , शा. उ. मा.वि., कोडिया , शा. बालक उ.मा.वि. मानपुर , शा. कन्या उ.मा.वि., मानपुर , शा. उ.मा.वि. , बिजौरी , शा. उ मा.वि., बल्होंड , शा. उ. मा. वि., भरेवा , शा. उ.मा.वि. , नौरोजाबाद , शा. उ.मा.वि., अमरपुर , शा. उ.मा.वि., घुलघुली, शा.उ.मा.वि., सुन्दर दादर , शा. हाई स्कूल बसकुटा , शा. उ.मा.वि., पिनौरा , शा. उ.मा.वि., घुनघुटी , शा. उ.मा.वि., पडवार , शा. उ.मा.वि., उमरिया कालरी, शा.उ.मा.वि. ताला , शा. हाई स्कूल , खलेसर , शा. उ.मा.वि., बड़वाही उमरिया , शा. उ.मा.वि., चन्सुरा, मानपुर, उमरिया , शा. हाई स्कूल पनपथा , शा. .उ.मा.वि, . बन्नौदा (पाली) , शा. आदि. उ.मा.वि., नौगवां , शा. उ.मा.वि, जरहा , शा. उ.मा.वि., सरसवाही, शा.उ.मा.वि., घमोखर , शा. उ.मा.वि., बिलासपुर शामिल है।
इसी तरह हाईस्कूल, निगहरी , शा. कन्या उ.मा.वि., नौरोजाबाद , शा. हाईस्कूल, मुड़गुड़ी , शा. उ.मा.वि., वेलसरा , शा. उ.मा.वि., मजमनीकला , शा. उ.मा.वि., मुदरिया , शा. मॉडल उ.मा.वि, करकेली, , शा.हाईस्कूल, कोहका 82 . , ब्लासिंग फ्लावर उ.मा. वि. . बिरसिंहपुर पाली ,सरस्वती उ.मा.वि., मानपुर शामिल है।
क्र0427

कक्षा बारहवीं की परीक्षा की संशोधित समय सारिणी जारी
उमरिया 27 मई – माध्यमिक शिक्षा मंडल की बारहवीं कक्षा की शेष परीक्षाएं 9 से 16 जून के बीच होंगी माध्यमिक शिक्षा मंडल (माशिमं) ने बारहवीं कक्षा की संशोधित समय सारिणी जारी की है। परीक्षा 9 से 16 जून के बीच ही होंगी, विषयवार तिथि में बदलाव किया गया है। 9 जून को पहली पाली में सुबह 9 से 12 दूसरी पाली में दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे तक पेपर होगा।
जिला शिक्षा अधिकारी उमेश कुमार धुर्वे ने बताया कि 9 जून को प्रथम पाली में 9 से 12 बजे तक हायर मैथेमैटिक्स तथा दूसरी पाली 2 से 5 बजे तक भूगोल विषय की परीक्षा आयोजित की जाएगी। 10 जून को प्रथम पाली में 9 से 12 बजे तक बुक कीपिंग एवं एकाउंटेंसी , तथा द्वितीय पाली में 2 से 5 बजे तक क्राप प्रोडक्शन एण्ड हार्टिकल्चर, प्रथम प्रश्न पत्र वोकेशनल कोर्स, 11 जून को 9 से 12 बजे तक बायोलाजी तथा 2 से 5 बजे तक अर्थशास्त्र, 12 जून को 9 से 12 बजे तक व्यावसायिक अर्थशास्त्र तथा 2 से 5 बजे तक एनिमल हस्बेण्ड्री मिल्कट्रेड पोल्ट्री फार्मिग एण्ड फिसरीज की परीक्षा आयोजित की जाएगी।
इसी तरह 13 जून को 9 से 12 बजे तक राजनीति शास्त्र, 2 से 5 बजे तक शरीर रचना क्रिया- विज्ञान एवं स्वास्थ्य, स्टिल लाईफ एण्ड डिजाईन, द्वितीय प्रश्न पत्र वोकेशनल कोर्स तथा 15 जून को 9 से 12 बजे तक केमेस्ट्री तथा 2 से 5 बजे तक विज्ञान के तत्व, भारतीय कला का इतिहास, तृतीय प्रश्न पत्र वोकेशनल कोर्स की परीक्षा आयोजित की जाएगी।
क्र0428

मध्यमिक षिक्षा मण्डल द्वारा संचालित हायर सेकेण्डरी परीक्षा की शेष परीक्षाओं के आयोजन हेतु परीक्षा केंन्द्रों में सभी आवष्यक व्यवस्था करनें के सीईओ जिला पंचायत ने दिए निर्देष
उमरिया 27 मई – मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत अंषुल गुप्ता ने बताया कि माध्यमिक शिक्षा मण्डल द्वारा आयोजित हायर सेकेण्डरी, हायर सेकेण्डरी व्यावसायिक परीक्षा वर्ष 2020 की शेष बची परीक्षाओं के आयोजन हेतु परीक्षा कार्यकरम जारी कर दिया गया है। परीक्षा 09 जून 2020 से प्रारंभ होकर पूर्व निर्धारित परीक्षा केन्द्रों पर आयोजित की जाएगी।
वर्तमान में नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण से बचाव के लिए पूर्व निर्धारित परीक्षा केन्द्रों पर आवश्यक व्यवस्था कराया जाना सुनिश्चित किये जाने संबंधी निर्देश पत्र जारी किया गया है परीक्षाओं के सफल संचालन एवं संकमण से बचाव के लिये जिला स्तर पर व्यवस्थायें की जानी है। कंटेनमेंट जोन में यदि कोई परीक्षा केन्द्र निर्धारित है अथवा किसी परीक्षा केन्द्र संस्था को नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण से संक्रमित व्यक्तियों के लिये क्वारेंटाईन सेंटर बनाया गया हो. तो ऐसे क्षेत्र के परीक्षा केन्द्र जिला कलेक्टर द्वारा परिवर्तित कर मण्डल को 28 मई 2020 तक अवगत कराया जाना है। यह भी सुनिश्चित किया जाये कि परिवर्तित परीक्षा केन्द्र की सूचना संबंधित छात्रों को भी अनिवार्य रूप से दी जाएँ।
मण्डल परीक्षाओं हेतु निर्धारित परीक्षा केन्द्रों के लिये नियुक्त केन्द्राध्यक्ष, सहायक केन्द्राध्यक्ष को अपरिहार्य कारणों से जिला कलेक्टर द्वारा परिवर्तित किया जा सकेगा। किन्तु ऐसी स्थिति में पूर्व केन्द्राध्यक्ष से नवीन नियुक्त केन्द्राध्यक्ष को गोपनीय सामग्री (प्रश्न-पत्र), परीक्षा की अन्य सामग्री एवं केन्द्र व्यय राशि का स्थानान्तरण अनिवार्य रूप से कराया जाना सुनिश्चित किया जावें। प्रत्येक परीक्षा केन्द्र को सेनेटाईज कराया जाए एवं परीक्षा केन्द्र पर सेनेटाईजर, साबुन एवं पानी की व्यवस्था भी की जाए।

परीक्षा कार्य में संलग्न समस्त अधिकारियों, कर्मचारियों एवं छात्रों को अपने नाक, मुंह को कपड़े से ढक कर रखना अनिवार्य होगा एवं फिजिकल डिस्टेन्स नियमों का पालन सुनिश्चित कराया जाये। यदि किसी परीक्षा केन्द्र पर फिजिकल डिस्टेन्स नियम का पालन कराने में असुविधा होने की स्थिति में उक्त केन्द्र का अनुपूरक उप केन्द्र बनाकर अतिरिक्त केन्द्राध्यक्ष एवं सहायक केन्द्राध्यक्ष की नियुक्ति की जा सकती है, किन्तु उक्त स्थिति में अनुपूरक, उप केन्द्र की दूरी मुख्य परीक्षा केन्द्र से अधिक नहीं होनी चाहिये। उक्त संबंध में की गई कार्यवाही से 28 मई .2020 तक अवगत कराने को कहा गया है।
समस्त परीक्षा केन्द्रों पर थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था की जाए तथा धर्मल स्क्रीनिंग के दौरान किसी अधिकारी कर्मचारी अथवा छात्र अथवा परीक्षा कार्य में संलग्न किसी भी व्यक्ति के शरीर का तापमान अधिक आने की स्थिति में शासन द्वारा निर्धारित मापदण्ड अनुसार आवश्यक कार्यवाही की जावे। किसी भी परीक्षा केन्द्र को अन्यत्र परिवर्तित किया जाता है तो उक्त केन्द्र पर संलग्न संस्थाओं के प्राचार्यों एवं संबंधित छात्रों को परीक्षा केन्द्र परिवर्तन की जानकारी से अवगत कराया जाए साथ ही आवश्यकता अनुसार परिवहन की व्यवस्था भी की जा सकती है। परीक्षा प्रारंभ होने के पूर्व संबंधित थाने में रखें प्रश्न-पत्रों का भौतिक सत्यापन कराकर यह सुनिश्चित करा लिया जावे कि कि प्रश्न-पत्र पर्याप्त मात्रा में हैं. सुरक्षित है और उनकी गोपनीयता भंग नही हुंई है।
परीक्षा कार्यक्रम जारी कर दिया गया है, उक्त से संबंधित छात्रों को भी अवगत कराया जावे। परीक्षाओं के संचालन व व्यवस्था के संबंध में जिन बिन्दुओं पर कार्यवाही हेतु दिनांक नियत नही की गई है के संबंध आवश्यक कार्यवाही कर 2 जून 2020 तक अनिवार्यतः प्रतिवेदन भिजवाना सुनिश्चित करें। नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण के कारण जो छात्र एक जिले से दूसरे जिले में विस्थापित हुये उनसे 28 मई 2020 तक आनलाईन आवेदन प्राप्त करने की व्यवस्था की गई है. ऐसे छात्रों के ऑनलाइन आवेदन नियत तिथि तक अनिवार्यतः करा दिया जावे।
क्र0429

कलेक्टर कॉन्फ्रेंस में विषय वस्तु का एजेंडा
उमरिया 27 मई – कमिश्नर शहडोल संभाग श्री नरेश पाल की अध्यक्षता में आयोजित कलेक्टर कॉन्फ्रेंस में चर्चा का एजेंडा के अनुसार होगा जिसमें कोविड-19 इंफ्रास्ट्रक्चर कोविड केयर सेफ्टी किड्स इफेक्टेड पिपल्स फीवर क्लीनिक पर चर्चा की जाएगी। एनआरसी कितने हैं, कितने मरीज भर्ती हैं, कितने प्रसव केंद्र कार्यरत हैं, ब्लड बैंक में ब्लड की उपलब्धता, मातृ मृत्यु की जानकारी, मौसमी बीमारियों के संबंध में जानकारी पर चर्चा की जाएगी। इसी प्रकार आमजन में रोग प्रतिरोधक क्षमता वृद्धि हेतु दवाओं का वितरण, छात्रवृत्ति एवं आहार योजना अंतर्गत बैगा महिला मुखिया को राशि का वितरण, प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना अंतर्गत राशन एवं गैस रिफिल के संबंध में, कक्षा 1 से 9 तक व्हाट्सएप ऐप के माध्यम से पढ़ाई के संबंध में प्रगति, टी.एच.आर. तथा आर.ई.टी. अंतर्गत खाद लड्डू आदि का वितरण, प्रवासी श्रमिकों का चिन्हाकन, आवास एवं दवा छिड़काव तथा साफ-सफाई, लॉक डाउन के दौरान कानून व्यवस्था, संभाग में सैनिटाइजर की उपलब्धता, प्रधानमंत्री आवास अंतर्गत प्रवासी श्रमिकों के खाते में राशि का अंतरण, गौशाला निर्माण समीक्षा, खाद बीज की उपलब्धता एवं वितरण की तैयारी, सभी प्रकार की सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजनाओं की समीक्षा, रेत खदानों को क्रियाशील कर श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध का तेंदूपत्ता तोड़ाई कार्य प्रगति, मोबाइल की ओर से जन धन योजना का भुगतान हेतु चर्चा की जाएगी।
क्र0430

मध्यप्रदेश की रिकवरी रेट अब 53 प्रतिशत
किसान चिंता न करें उनका पूरा गेहूँ खरीदेंगे
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा की
उमरिया 27 मई – मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में बड़ी संख्या में कोरोना के मरीज स्वस्थ होकर घर जा रहे हैं। प्रदेश की कोरोना रिकवरी रेट अब 53 प्रतिशत हो गई है। देश की रिकवरी रेट 41.8 प्रतिशत है। इसी प्रकार मध्यप्रदेश में कोरोना की डबलिंग रेट 21 दिन हो गई है। वहीं देश की कोरोना डबलिंग रेट 15.4 दिन है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किसान चिंता न करें उनका पूरा गेहूँ खरीदा जायेगा। उन्होंने निर्देश दिये कि जिन जिलो में अभी पंजीकृत किसान समर्थन मूल्य पर गेहूँ नहीं बेच पाये हैं, उन जिलों में गेहूँ उपार्जन की व्यवस्था सुचारू रहे। प्रदेश में अभी तक 116 लाख 82 हजार एम.टी. गेहूँ की खरीदी की जा चुकी है। वहीं 11 लाख 56 हजार किसानों के खातों में 15 हजार 134 करोड़ रूपये का भुगतान किया जा चुका है।
मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, डीजीपी श्री विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान, प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा श्री संजय शुक्ला आदि उपस्थित थे।
जल्द पहचान से कम हुई मृत्यु दर
इंदौर जिले की समीक्षा के दौरान कलेक्टर ने बताया कि इंदौर में सघन सर्वे तथा टैस्ट के माध्यम से मरीजों की जल्द पहचान से मृत्यु दर में उल्लेखनीय कमी आ रही है। इंदौर की कोरोना मृत्यु दर 3.6 है, म.प्र. की 4.1 प्रतिशत है और भारत की 2.6 प्रतिशत है। गत सप्ताह इंदौर की कोरोना मृत्यु दर 1.08 प्रतिशत रही। कोरोना मरीजों की डबलिंग रेट बढ़कर 30 दिन हो गई है। शहर के संक्रमित वार्ड की संख्या 79 से 62 रह गई है।
फीवर क्लीनिक द्वारा अच्छा कार्य
कलेक्टर इंदौर ने बताया कि इंदौर में फीवर क्लीनिक अच्छा कार्य कर रही हैं। इनमें स्वास्थ्य जांच की जा रही है। हर फीवर क्लीनिक पर एम्बुलेंस की व्यवस्था भी की गई है। निजी व शासकीय दोनों क्षेत्रों में फीवर क्लीनिक प्रारंभ हो गई हैं।
इंदौर में 500 बैड का सुपर स्पेशिलिटी हॉस्पिटल
बताया गया कि इंदौर में 500 बिस्तरीय सुपर स्पेशिलिटी हॉस्पिटल बन रहा है, जो 15 जून के आस-पास कार्य करना प्रारंभ कर देगा।
इंदौर संभाग की स्थिति में निरंतर सुधार
संभागायुक्त इंदौर ने बताया कि इंदौर संभाग के सभी जिलों की स्थिति में निरंतर सुधार हो रहा है। धार में 114 में 104 डिस्चार्ज हुए, खरगौन में 119 में 95, खंडवा में 232 में 184, बड़वानी में 41 में 30 तथा झाबुआ में 13 में 6 कोरोना मरीज डिस्चार्ज होकर घर चले गये हैं।
पुलिस कर्मियों का मनोबल बढ़ाएं
स्वास्थ्य एवं गृह मंत्री श्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कोरोना कार्य में लगे पुलिसकर्मियों सहित पूरे अमले का मनोबल बढ़ाया जाये। बहुत से पुलिस एवं स्वास्थ्य कर्मी कोरोना की ड्यूटी के कारण अपने परिवार से अलग रह रहे हैं। इनके परिवारों का भी ध्यान रखा जाये।
12वीं की परीक्षाओं की व्यवस्था करें
मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने निर्देश दिए कि आगामी 8 से 16 जून तक 12वीं की परीक्षाएं होनी है, इस संबंध में कलेक्टर्स आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित करें।
श्रम सिद्धि अभियान में डेढ़ लाख से अधिक जॉब कार्ड बनाये गये
अपर मुख्य सचिव श्री मनोज श्रीवास्तव ने बताया कि प्रदेश में चलाये जा रहे श्रम सिद्धि अभियान के अंतर्गत डेढ़ लाख से अधिक मजदूरों के जॉब कार्ड बनाये गये हैं। मनरेगा के अंतर्गत अभी तक 23 लाख 26 हजार 964 व्यक्तियों को रोजगार उपलब्ध कराया गया है। प्रदेश में कुल 1 लाख 95 हजार 989 कार्य प्रारंभ किये जा चुके हैं, जिनमें 1235 करोड़ रूपये का भुगतान मजदूरों को कर दिया गया है।
पाँच लाख 45 हजार मजदूर वापस आये
अपर मुख्य सचिव श्री आईसीपी केशरी ने बताया कि मध्यप्रदेश में अभी तक 5 लाख 45 हजार प्रवासी मजदूर वापस आ गये हैं। इनमें से बसों द्वारा 3 लाख 83 हजार तथा ट्रेनों के द्वारा 1 लाख 62 हजार मजदूर वापस आये हैं। अभी तक 129 ट्रेन प्रदेश वापस आ गयी हैं। प्रमुख सचिव श्री संजय दुबे ने बताया कि जम्मु कश्मीर में अभी प्रदेश के कुछ मजदूर फँसे हुए हैं, जिनके लिये दो ट्रेन चलायी जाने की आवश्यकता है। मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा तुरंत इसके लिये अनुमति प्रदान की गयी।
क्रमांक 431

अन्य प्रदेशों से करीब 5 लाख 45 हजार श्रमिक वापस आए
उमरिया 27 मई – अपर मुख्य सचिव एवं प्रभारी स्टेट कंट्रोल रूम श्री आई.सी.पी. केशरी ने जानकारी दी है कि कोरोना संक्रमण के कारण विभिन्न प्रदेशों में फंसे 5 लाख 45 हजार श्रमिक मध्यप्रदेश में वापस लाये जा चुके हैं। इनमें से 3 लाख 83 हजार श्रमिक बसों से और करीब एक लाख 62 हजार श्रमिक ट्रेनों से वापस लाये गये हैं। अब तक गुजरात से 2 लाख 8 हजार, राजस्थान से एक लाख 20 हजार, महाराष्ट्र से एक लाख 26 हजार श्रमिक वापस लाए गए हैं। इसके अतिरिक्त गोवा, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, केरल, आंध्रप्रदेश, तमिलनाडु और तेलंगाना से भी श्रमिक वापस लाये गये हैं।
श्री केशरी ने बताया है कि अभी तक 129 ट्रेन आ चुकी हैं। कल एक ट्रेन आने की संभावना है। अभी तक मुख्य रूप से महाराष्ट्र से 36, गुजरात से 28, हरियाण से 15, तेलंगाना से 7, पंजाब से 7, कर्नाटक से 4, गोवा से 3, तमिलनाडु से 3 और केरल, राजस्थान, दिल्ली तथा जम्मू से 2-2 ट्रेन आ चुकी हैं।
प्रदेश के बाहर के करीब 4 लाख 30 हजार श्रमिकों को अन्य प्रदेशों की सीमा तक बसों से पहुँचाया गया है। अब प्रदेश के श्रमिकों का आना बहुत कम हो गया है। बसें मात्र दूसरे प्रदेश के श्रमिकों को अन्य प्रदेशों की सीमा तक पहुँचाने के कार्य में लगी हुई हैं।

क्रमांक432

बिजली बिल की एक्यूरेसी पर पूरा ध्यान दें रू श्री गढ़पाले
उपभोक्ताओं व जन-प्रतिनिधियों से सतत् संवाद रखें
उमरिया 27 मई – मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के प्रबंध संचालक श्री विशेष गढ़पाले ने मैदानी इंजीनियरों को निर्देश दिए हैं कि जन-प्रतिनिधियों व उपभोक्ताओं से सतत संवाद रखा जाए। उनकी समस्याओं को समय पर हल किया जाए। उपभोक्ताओं के बिजली बिल की एक्यूरेसी (शुद्धता) पर ध्यान रखें, ऑनलाइन भुगतान को मैदानी स्तर पर प्रोत्साहित करें।
श्री गढ़पाले ने कहा कि आबादी क्षेत्र को 24 घंटे एवं कृषि कार्य के लिए 10 घंटे विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित की जाए। सभी मैदानी अधिकारी अपने मोबाइल फोन चालू रखें। उन्होंने कहा कि बिल सुधार के प्रयासों, मेंटेनेंस आदि की जानकारी उपभोक्ताओं व जन-प्रतिनिधियों को समय पर दी जाए। यदि किसी फीडर पर फाल्ट हो गया है तो उसकी सूचना भी वितरण केन्द्र स्तर तक के वाट्सएप ग्रुप या फोन से प्रमुख उपभोक्ता एवं जन प्रतिनिधियों को दी जाए। मैंटेनेंस गुणवत्तापूर्ण हो ताकि वहां जल्दी कोई खराबी नहीं आये। प्रबंध संचालक ने कहा कि मैंटेनेंस समेत बिजली के सभी कार्यों में सुरक्षा का पूरा ध्यान रखें। लाइनों पर कार्य के दौरान झूला, हेलमेट, ग्लब्ज आदि पहनकर काम किया जाए।
राजस्व संग्रह पर ध्यान दें
कंपनी के प्रबंध संचालक ने कहा कि राजस्व संग्रह पर विशेष ध्यान दें। बकायादार उपभोक्ताओं से फोन, ई-मेल, एस.एम.एस., व्हाट्सएप के जरिए बिल जमा करने का आग्रह करें। लाइन स्टाफ एवं अन्य स्टाफ को राजस्व संग्रह के लिए बकायादारों से संपर्क के लिए कहें ताकि राजस्व संग्रह प्रभावी ढंग से हो सके।
क्रमांक433

आत्मनिर्भर भारत में होगा मध्यप्रदेश का महत्वपूर्ण योगदान
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की मंत्रियों से चर्चा, विभागों की तैयारियाँ देखीं
फसल बीमा और किसान सम्मान निधि के 4600 करोड़ मिलने से किसानों को मिली राहत
उमरिया 27 मई – मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में मध्यप्रदेश का महत्वपूर्ण योगदान रहेगा। मध्यप्रदेश में कृषि, उद्यानिकी, सहकारिता, मत्स्य पालन, पशुपालन और उद्योग के क्षेत्र में रोजगारमूलक कार्यों के माध्यम से सशक्त अर्थव्यवस्था के लिये अधिकतम प्रयास होंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय में मंत्रिपरिषद के सदस्यों के साथ वित्त मंत्री भारत सरकार के वक्तव्य के बिन्दुओं पर मध्यप्रदेश में विभिन्न विभागों की तैयारियों के संबंध में प्रस्तुतिकरण के पश्चात चर्चा कर रहे थे। इस दौरान बताया गया कि प्रदेश में कोरोना संकट के फलस्वरूप लॉकडाउन की लगभग दो माह की अवधि में 4600 करोड़ रूपये की राशि किसानों के खाते में जमा कर उन्हें राहत प्रदान की जा चुकी है। इसमें प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना और किसान सम्मान निधि योजना की राशि शामिल हैं।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि उद्योग क्षेत्र में इण्डस्ट्रियल कॉरिडोर के विकास, बैटरी चलित वाहनों के उपयोग में मध्यप्रदेश लीड करने का प्रयास करेगा। इसी तरह पशुपालन के तहत गौवंश की रक्षा के साथ पशु नस्ल सुधार का कार्य अभियान के रूप में संचालित होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि उद्यानिकी में कार्य की काफी संभावना हैं। प्रदेश में मधुमक्खी पालन जैसे लाभकारी कार्य से लोगों को जोड़ने के प्रयास बढ़ाए जायेंगे। विशेष रूप से मुरैना और भिण्ड जिलों में इस कार्य का विस्तार किया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अंतर्विभागीय समन्वय से तालाब निर्माण और मत्स्य पालन के कार्यों को जोड़कर किसान के हित में योजना लागू करने के निर्देश दिये।
प्रस्तुतिकरण और चर्चा
किसान कल्याण तथा कृषि विकास रू – प्रदेश में 115 लाख मेट्रिक टन गेहूँ का उपार्जन हुआ है। इसके साथ ही चना, मसूर और सरसों का उपार्जन भी 2.13 लाख मेट्रिक टन हुआ है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में 2990 करोड़ रूपये हितग्राहियों को दिये गये हैं। एफ.पी.ओ. (फार्मर प्रोड्यूसर आर्गेनाइजेशन) की स्थापना और सुदृढ़ीकरण के लिये भी कार्य-योजना बनाई जा रही है। एक हजार नवीन एफ.पी.ओ. का लक्ष्य है। एग्री इन्टरप्रिन्योर और एग्री स्टार्टअप में 500 का लक्ष्य रखते हुये अधोसंरचना निर्माण का कार्य किया जायेगा। कृषि विपणन क्षेत्र में सुधार के अंतर्गत ई-ट्रेडिंग को प्रोत्साहित किया जा रहा है। मण्डी अधिनियम में परिवर्तन और यूनिफाइड लायसेन्स की व्यवस्था इसी सिलसिले में की गई है। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश देश में तीसरे क्रम पर है। लॉकडाउन की अवधि में लगभग 85 लाख परिवारों को 1700 करोड़ रूपए का वितरण किया गया है।
सहकारिता – अपेक्स बैंक को नाबार्ड द्वारा 2000 करोड़ रूपए स्वीकृत किये गये हैं। खरीफ 2019 में दिये गये फसल ऋण के लिये अंतिम तिथि 31 मई तक बढ़ाई गई है। इससे 16 लाख किसानों को करीब 47 करोड़ रूपये की ब्याज सहायता भारत सरकार से और समय पर ऋण अदायगी पर प्रोत्साहन के रूप में प्राप्त होने की आशा है। प्रदेश में किसानों को पात्रतानुसार चरणबद्ध कार्ययोजना में के.सी.सी. (किसान क्रेडिट कार्ड) की उपलब्धता रहेगी। कृषि अधोसंरचना फण्ड के संबंध में भारत सरकार से दिशा-निर्देश प्राप्त होने पर कार्ययोजना के लिये कार्रवाई की जायेगी। सूक्ष्म खाद्य उद्यमों के क्षेत्र में अनेक गतिविधियाँ संचालित की जायेंगी। प्रदेश में 50 क्लउस्टर का विकास प्रस्तावित है। इन्फ्रास्ट्रक्चर लॉजिस्टिक, कैपेसिटी बिल्डिंग और हर्बल खेती को बढ़ावा देने के लिये 200 नई इकाइयों की स्थापना और 10 लाख हेक्टेयर में अगले दो वर्ष में औषधीय पौधे लगाने की योजना है। मधुमक्खी पालन के अंतर्गत 23 हजार 600 इकाइयाँ चल रही हैं।
मछुआ कल्याण तथा मत्स्य विकास रू- मत्स्य पालन के क्षेत्र में नई प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना हाल ही में केन्द्रीय मंत्रिपरिषद से अनुमोदित हुई है। इसमें राज्यों को संस्थागत सहयोग के लिये वित्तीय सहायता उपलब्ध करवाई जायेगी। मध्यप्रदेश को लगभग 30 करोड़ सालाना अनुदान राशि मिलने का अनुमान है।
पशुपालन – प्रदेश में पशुओं में शत-प्रतिशत टीकाकरण और पशुओं की टैगिंग का कार्य होगा। सभी 290 लाख गौ और भैंस वंशीय पशुओं को टैग लगाने का कार्य चल भी रहा है। अब तक 70 लाख पशुओं को टैग लगाए जा चुके हैं। भारत सरकार द्वारा करीब 50 करोड़ रूपये की राशि प्रदान की गई है।
उद्योग रू- आत्मनिर्भर भारत के अंतर्गत औद्योगिक विकास के लिये मध्यप्रदेश में 12 हजार 507 हेक्टेयर का भूमि बैंक विकसित किया गया है। निजी क्षेत्र की भागीदारी को आमंत्रित करने की पहल की गई है। औद्योगिक क्षेत्रों के विकास के लिये हवाईअड्डों, राजमार्गों और प्रमुख रेलवों स्टेशनों के निकटवर्ती क्षेत्रों में भूमि चिन्हित की जायेगी। प्रदेश की कार्ययोजना में औद्योगिक क्षेत्रों की स्थापना के लिये निजी क्षेत्रों की इक्विटी के रूप में भागीदारी आमंत्रित करने की संभावनाओं को देखा जायेगा। प्रदेश में 4 परिधान पार्क विकसित करने का प्रस्ताव हैं जो इंदौर, भोपाल, छिंदवाड़ा और रतलाम में होंगे। केमिकल और फार्मास्युटिकल पार्क भी प्रस्तावित हैं। इलेक्ट्रिक वाहनों के उपयोग और अन्य प्रदेशों के बड़े नगरों जैसे नागपुर, अहमदाबाद आदि से कनेक्टिविटी बेहतर बनाने की दिशा में भी कार्य प्रस्तावित है। भोपाल-इंदौर राजमार्ग पर निवेश आकर्षित करने के लिये बेहतर जल उपलब्धता के लिये भी विभागों से समन्वय किया जा रहा है।
स्वास्थ्य एवं गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, जल संसाधन मंत्री श्री तुलसी सिलावट, कृषि विकास एवं किसान कल्याण मंत्री श्री कमल पटेल, खाद्य और सहकारिता मंत्री श्री गोविन्द सिंह राजपूत और आदिम जाति कल्याण मंत्री सुश्री मीना सिंह ने आत्मनिर्भर भारत के निर्माण के लिये मध्यप्रदेश में विभिन्न क्षेत्रों में आर्थिक गतिविधियों का संचालन बढ़ाने के संबंध में सुझाव दिए। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, संबंधित विभागों के अपर मुख्य सचिव और प्रमुख सचिव उपस्थित थे।
क्रमांक434

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान को किसानों की ओर से ग्रीष्मकालीन मूंग भेंट
उमरिया 27 मई – मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान को मंत्रालय में कृषि विकास एवं किसान कल्याण मंत्री श्री कमल पटेल ने हरदा और होशंगाबाद क्षेत्र के किसानों की ओर से प्रतीक स्वरूप मूंग भेंट की। इस अंचल में इस वर्ष ग्रीष्मकालीन मूंग की बहुत अच्छी पैदावार हुई है। किसानों और श्रमिकों को विभिन्न कार्यों से रोजगार भी मिला है। किसानों ने मुख्यमंत्री श्री चौहान के प्रति आभार व्यक्त करने के लिए कृषि मंत्री श्री पटेल के माध्यम से ग्रीष्मकालीन मूंग भेंट की। कृषि मंत्री श्री पटेल ने बताया कि हरदा जिले में 74 हजार 142 हेक्टेयर में और होशंगाबाद जिले में 1 लाख 2000 हेक्टेयर में इस तरह कुल 1 लाख 76 हजार 142 हेक्टेयर में मूंग का उत्पादन हुआ है। इस अंचल में ग्रीष्मकालीन मूंग की प्रति हेक्टेयर औसत पैदावार 10 से 12 क्विंटल हुई है जो एक उपलब्धि है। इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, जल संसाधन मंत्री श्री तुलसी सिलावट, खाद्य और सहकारिता मंत्री श्री गोविन्द सिंह राजपूत और आदिम जाति कल्याण मंत्री सुश्री मीना सिंह उपस्थित थीं।
क्रमांक 435

नगरीय निकाय उपलब्ध जल का आकलन कर बनायें कार्ययोजना
उमरिया 27 मई – नगरीय निकाय जल प्रदाय व्यवस्था एवं जल स्त्रोतों में उपलब्ध जल का आकलन कर आगामी माह में जल प्रदाय की कार्ययोजना बनायें। पेयजल परिवहन पर निर्भरता कम से कम रखी जाये। प्रमुख सचिव नगरीय विकास एवं आवास श्री नीतेश व्यास ने यह निर्देश सभी नगर निगम आयुक्तों और मुख्य नगर पालिका अधिकारियों को दिये हैं। उन्होंने कहा है कि गर्मी में पेयजल का संकट नहीं होना चाहिए।
श्री व्यास ने कहा है कि जरूरी होने पर पेयजल परिवहन के प्रस्ताव कलेक्टर के माध्यम से संचालनालय भेजें। उन्होंने कहा है कि यदि किसी जल स्त्रोत के अधिग्रहण की जरूरत है, तो तत्काल यह कार्यवाही करें। श्री व्यास ने कहा कि जिन नगरीय निकायों में पेयजल योजना का कार्य जारी है, उसे समय-सीमा में पूरा करवायें।
क्रमांक436
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने 3300 हितग्राहियों के खाते में एक क्लिक से जमा किए 72 करोड़ 66 लाख
संबल योजना गरीबों के कल्याण की योजना, हम सरकार परिवार की तरह चला रहे,
हर जरूरतमंद को मिलेगी अनुग्रह सहायता रू मुख्यमंत्री श्री चौहान
उमरिया 27 मई – मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रीे-परिषद के सदस्यों की उपस्थिति में मुख्यमंत्री जन कल्याण संबल योजना के अंतर्गत 3300 हितग्राहियों को 72 करोड़ 66 लाख रुपए की अनुग्रह सहायता सिंगल क्लिक के माध्यम से प्रदान की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जो लोग कष्ट में हैं, संकट में हैं, उनकी सहायता के लिए यह अनुग्रह राशि प्रदान की जा रही है।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हम सरकार परिवार की तरह चला रहे हैं। समाज के निर्धन वर्ग को जीवन की कठिन परिस्थितियों में ष्संबलष् का कवच उपलब्ध करवाया गया है। प्रदेश में वर्ष 2018 में प्रारंभ हुई इस योजना को अब प्रभावी रूप से अमल में लाया जा रहा है। योजना का क्रियान्वयन कर जन्म से लेकर असामयिक मृत्यु तक हितग्राहियों को विभिन्न तरह की आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई जा रही है।
प्रदेश में इस वर्ष 5163 हितग्राहियों को कुल 114 करोड़ रुपए की राशि का भुगतान किया जा चुका है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि श्रमिकों की मदद के लिए राज्य सरकार ने ष्श्रम सिद्धि अभियानष् में रोजगार उपलब्ध कराने पर ध्यान दिया है। अन्य प्रदेशों के श्रमिकों को भी आर्थिक सहारा देने का प्रबंध किया गया है। श्रमिकों को मनरेगा में रोजगार देने, राशन देने के साथ ही संबल योजना में भी लाभान्वित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि औरंगाबाद में दुर्घटना का शिकार हुए श्रमिकों को तत्काल सहायता उपलब्ध करवाई गई। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि संबल योजना बनाने का उद्देश्य गरीबों और आर्थिक रूप से कमजोर किसानों को आर्थिक सहायता उपलब्ध कराना है।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गत वर्ष इस योजना को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया था जो सबसे पीछे है और सबसे नीचे है, उनके लिये राज्य सरकार ने संबल योजना प्रारंभ की थी। अब योजना का सभी पात्र हितग्राहियों को लाभ दिलवाया जाएगा।
हितग्राहियों से बातचीत -बालक को कहा, सर नहीं, तुम्हारा मामा हूँ
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने उन छह परिवारों से चर्चा की जिन्हें परिजन की मृत्यु पर दो-दो लाख रुपए की सहायता दी गई। मुख्यमंत्री ने मंदसौर के मल्हारगढ़ निवासी श्री कमलेश से चर्चा की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने परिवार के सदस्यों से कुशलक्षेम पूछी। उन्होंने धार जिले की श्रीमती जया व्यास तथा उनके बेटे आधार से भी चर्चा की। बातचीत प्रारंभ होते ही आधार ने मुख्यमंत्री श्री चौहान को कहा – सर नमस्कार, तो मुख्यमंत्री चौहान ने कहा ष्मैं सर थोड़ी न हूँ – मैं तो मामा हूँष्। पारिवारिक रूप से की गई बातचीत के क्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बैतूल जिले के प्रभात पट्टन की श्रीमती अनीता बाई से चर्चा कर बेटियों का हालचाल पूछा। श्रीमती अनीता ने बताया 8 जून से परीक्षाएं शुरू हो रही हैं जिसकी तैयारी उनकी बेटी कर रही है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा आप सभी परिवार का ध्यान रखना। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विदिशा जिले के ग्यारसपुर की श्रीमती चंद्रावती से बातचीत की। श्रीमती चंद्रावती की बेटी सोनम कक्षा 10 में पढ़ती है। सोनम ने मुख्यमंत्री श्री चौहान को नमस्ते मामा कहकर संबोधित किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सोनम को अच्छी तरह पढ़ाई करने को कहा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने रतलाम के श्री प्रहलाद पाटीदार से भी चर्चा की। इस परिवार को भी परिजन की मृत्यु की राशि प्राप्त हुई है। सतना जिले के नागौद की श्रीमती कमला को संबल योजना में उन्हें सहायता राशि दी गई है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि परिवार को परेशानी नहीं होना चाहिए। श्रीमती कमला की दो बेटियां हैं जिनमें एक विवाहित है और एक कक्षा दसवीं में पढ़ती है। सभी परिवार मुख्यमंत्री श्री चौहान से हुई आत्मीय बातचीत में भावुक भी थे और उनकी आंखों में प्राप्त सहायता के लिए राज्य सरकार और मुख्यमंत्री श्री चौहान के प्रति कृतज्ञता के भाव भी दिखाई दिए।
इस अवसर पर स्वास्थ्य और गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, कृषि मंत्री श्री कमल पटेल, खाद्य और सहकारिता मंत्री श्री गोविंद सिंह राजपूत, जल संसाधन मंत्री श्री तुलसी सिलावट और आदिम जाति कल्याण मंत्री सुश्री मीना सिंह, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस,प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री मनीष रस्तोगी,प्रमुख सचिव श्रम डॉ राजेश राजौरा उपस्थित थे।
क्रमांक437

भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों को मंत्रालय में कक्ष आवंटित
उमरिया 27 मई – सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों को पूर्व आवंटित कक्षों में संशोधन करते हुए अधिकारियों को नवीन कक्ष आवंटित किये हैं ।
श्री विनोद कुमार अपर मुख्य सचिव सामान्य प्रशासन विभाग को पूर्व आवंटित कक्ष बी-427 टठ-2 से नवीन कक्ष क्र .ठ-313 टठ-2 तृतीय तल आवंटित किया गया है । इसी प्रकार श्री मनोल गोविल प्रमुख सचिव वाणिज्यिक कर विभाग को कक्ष क्र. ब्-307 टठ 2 थर्ड फ्लोर से कक्ष क्र.209-10 द्वितीय तल टठ-1, श्री बी.एम.शर्मा विशेष कर्तव्यस्थ अधिकारी मुख्यमंत्री को कक्ष क्रं. 507 टठ-1 पंचम तल, श्री सुदाम खाड़े सचिव जनसम्पर्क को कक्ष क्रं. 508 पंचम तल टठ-1 तथा श्री पंकज राग प्रमुख सचिव संसदीय कार्य विभाग को कक्ष क्रं-227 द्वितीय तल टठ-1 आवंटित किया गया है ।
क्रमांक438

सी.एम. हेल्पलाइन बनी जरूरतमंदों का बड़ा आसरा
करीब 8 लाख लोगों को मिली सहायता
उमरिया 27 मई – प्रदेश में कोरोना के कारण लागू लॉकडाउन में सी.एम. हेल्पलाइन नम्बर 181 पर अब तक 7 लाख 88 हजार 800 लोगों के फोन करने पर भोजन, राशन, दवाओं, परिवहन तथा अन्य प्रकार की सहायता उपलब्ध कराई गई है। सी.एम. हेल्पलाइन किसानों के लिये भी मददगार साबित हो रही है। इस पर अब तक फसल कटाई, फसल परिवहन आदि की समस्याओं का तुरंत निराकरण सुनिश्चित किया गया है।
राज्य सरकार द्वारा आमजन को सहज रूप से उपलब्ध करवाई जा रही सुविधाओं की वजह से पिछले 10 दिनों में सी.एम. हेल्पलाइन में आने वाले फोनकॉल (शिकायतों) की संख्या में कमी आई है। सी.एम. हेल्पलाइन नम्बर 181 पर अब तक भोजन संबंधी 6 लाख 36 हजार 141, परिवहन संबंधी 47 हजार 647, दवाइयों संबंधी 38 हजार 857, आवश्यक वस्तुएं जैसे दूध, सब्जी आदि संबंधी 19 हजार 678 तथा अन्य प्रकार की 46 हजार 477 समस्याओं की सूचना मिलते ही त्वरित कार्रवाई कर सहायता मुहैया कराई गई।
क्रमांक 439

Leave A Reply

Your email address will not be published.