Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

पालक महासंघ एवं निजी विद्यालयों की बैठक संपन्न

0 1

जबलपुर दर्णप ब्यूरो जिला सतना

एसपी त्रिपाठी जिला प्रमुख जबलपुर दर्पण -‘जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय मेंजिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में -पालक महासंघ सतना द्वारा अभिभावकों की समस्याओं को लेकर लगातार जिला कलेक्टर ,जिला शिक्षा अधिकारी से कई बार लिखित में शिकायतें की गई , इसके बाद भी निजी विद्यालय फीस वसूलने के लिए अभिभावकों पर दबाव डालते रहे, लिखित में शिकायत एवं ज्ञापन देने के बाद पालक महासंघ द्वारा जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय को घेरकर हल्ला बोल कार्यक्रम किया गया, जिसके कारण जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा निजी विद्यालयों एवं अभिभावकों की एक बैठक रखने का प्रस्ताव किया गया, जिसे पालक महासंघ ने मंजूर किया , उसी संबंध में आज पालक महासंघ के पदाधिकारियों ,अभिभावकों एवं निजी विद्यालयों की आवश्यक बैठक जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में संपन्न हुई , जिसमें कई निजी विद्यालय वाले मौजूद रहे, क्राइस्ट ज्योति ,सेंट माइकल, बोनांजा कन्वेंट अन्य कई स्कूलों के निजी संचालक मौजूद रहे , अभिभावकों ने अपनी समस्या सुनाई एवं विद्यालय संचालकों ने अपने मुद्दे रखे, बीच में अभिभावकों एवं संचालकों के बीच वाद विवाद की स्थिति भी उत्पन्न हुई , जिसे शांत करवाया गया , जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा यह निर्णय लिया गया की उक्त बैठक की संपूर्ण बातें जिला कलेक्टर के समक्ष रखी जाएंगी , और एक कमेटी गठित कर निर्णय लिया जाएगा , तब तक कोई भी निजी विद्यालय अभिभावकों पर फीस संबंधी दबाव नहीं डाल सकते, और ना ही किसी बच्चे को परीक्षा से वंचित कर सकते हैं , एवं कोई भी विद्यालय एनसीईआरटी के अलावा कोई भी बुक्स दबाववस अभिभावकों खरीदने पर मजबूर नहीं कर सकता, सभी अभिभावकों ने अपना पक्ष बहुत ही मजबूती से रखा, बैठक 3:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक लगातार चली , जिला शिक्षा अधिकारी श्री कुशवाहा जी ने 7 दिन के अंदर जिला कलेक्टर को अवगत करा कर कुछ ना कुछ निर्णय देने की घोषणा की , पालक महासंघ की ओर से विजय देवसेना , राजललन सिंह , आदित्य मिश्रा , बृजेंद्र अग्निहोत्री , अभिनेश तिवारी , सुनील सिंह , राजेश अग्रवाल , राकेश श्रीवास्तव , रविंद्र पांडे, नितेश शर्मा , कमलेश शुक्ला, बृजेंद्र सिंह, श्याम गुप्ता , राकेश साहू , अनिरुद्ध जैन ,आदि कई लोग शामिल रहे*

Leave A Reply

Your email address will not be published.