Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

प्रशासन को खुली चुनौती दे रहे कुकर्रामठ के अतिक्रमणकारी

0 26
  • शासकीय पशु अस्पताल, स्वास्थ केन्द्र,हाईस्कूल ग्राउंड,बाजार टोला में अवैज कब्जा

डिण्डौरी।जिले के समनापुर जनपद अंर्तगत ग्राम पंचायत कुकर्रामठ में अतिक्रमण करनें का सिलसिला थमनें का नाम नहीं ले रहा है। गांव के कुछ कथित अतिक्रमणकारी अवैध कब्जा करनें के लिये इस कदर हावी हैं कि गांव के बहूपयोगी शासकीय जमिमों पर जबरन कब्जा किया जा रहा है। जिसे रोकने गांव के जिम्मेंदारों द्वारा कोई ठोस पहल नही की जा रही है, जिससे दिनोंदिन अतिक्रमण करनें का सिलसिला जारी है।आलम यह है कि गांव के अधिकांश शासकीय भूमि पर कुछ अतिक्रमण कारियों का कब्जा हो गया है। दिनोंदिन अतिक्रमण करनें का सिलसिला भी जारी है,जिससे शासकीय जमीन दिनों-दिन कम होती जा रही है। जिससे आनें वाले दिनो में अधिकतर शासकीय भूमि अतिक्रमण की चपेट में होगी। जिससे गांव के स्थानीय ग्रामीणों को परेशान होना पड़ सकता है। कारण कि आने वाले समय में सामाजिक कार्य,शासकीय भवनों का निर्माण सहित अन्य कार्य आने वाले दिनों में प्रभावित होगी।

  • कार्यवाही करनें नही हो रही पहल।

स्थानीय ग्रमीणों ने बताया कि गांव के पशु अस्पताल, स्वास्थ केन्द्र, बाजार टोला, हाईस्कूल ग्राउंड, उचित मूल्य की दुकान, ग्राम पंचायत भवन सहित अन्य स्थानों पर अतिक्रमणकारी सक्रिय हैं, जहां हर दिन अतिक्रमण करनें का सिलसिला जारी है। कई स्थानों पर पान ठेला, झोपड़ी, पत्थर आदि रखवाकर अतिक्रमण किया जा रहा है। पशु अस्पताल के ठीक सामनें बड़ा ठेला लगाकर अतिक्रमण किया गया है। जिससे अब दूर दराज से पहुंचे मवेशी मालिकोें को इलाज करवानें में परेशानी हो रही है, जिसे हटवानें जिम्मेंदारों द्वारा कोई ठोस पहल नही की जा रही है। इसी तरह कुकर्रामठ के हाईस्कूल ग्राउंड की अधिकतर भूमि अतिक्रमण की चपेट में है, अभी भी अतिक्रमण करनें के लिये अस्थाई झोपड़ी बनावाकर पत्थर से गेटर लगवाया जा रहा है,जिसे रोकनें भी जिम्मेंदारों द्वारा कोई पहल नहीं की जा रही है। हाईस्कूल प्रचार्य अनीता उद्दे की मानें तो अतिक्रमण करनें की शिकायत शिक्षा विभाग, राजस्व विभाग सहित पंचायत के जिम्मेदारों को कई बार शिकायत की जा चुकी है,लेकिन अभी तक इस ओर कोई ठोस कार्यवाही नही की गई है। मामले को लेकर कई तरह के सवाल भी उठ रहे हैं। आखिर अतिक्रमण कारी किस के इशारों पर अतिक्रमण करने में लगे हैं, जिन्हें ना तो पुलिस प्रशासन का डर है और ना ही पंचायत के जिम्मेदारों का। मामले को लेकर स्थानीय ग्रामीणों ने शासन प्रशासन से जल्द से जल्द अतिक्रमण हटाए जाने की मांग की गई है, ताकि आने वाले दिनों के लिए शासकीय जमीनों को संरक्षित किया जा सके।

Leave A Reply

Your email address will not be published.