Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

मुंबई महानगर पालिका के नालो से अब बदबू गायब

0 10

रिपोर्ट : के .रवि ( दादा )। आनेवाले समय में मुंबई महानगर पालिका के नालों से बदुब बिल्कुल गायब ही जाएगी . चिफ इंजिनियर ( एसडब्ल्यूडी ) श्री . संजय जाधव जी अपनी टीम के साथ मुंबई के नालों की सफाई के लिए योजनाओं पर काम कर रहे है . इनमें से तो कुछ काम ही चुका है तो कुछ परियोजनाये कार्यान्वय है .जिसके लिए बीएमसी जल्द ही सलाहकार चुनेगी. संजय जाधव के अनुसार वे पूरी तरह नालों की भलाई के लिए पूरी सिधत से काम और लगे है .इस मुंबई के बदबूदार नाले वैसे भी शहर को बदनाम को बदनाम करते रहते है . लोगों की वहां से गुजरते समय अपनी नाक बंद करनी पड़ती है .अब इसे बिएमसी योजना के तहत साफ कर इसके इर्द गिर्द के अवैध निर्माण को हटा रही है . संजय जाधव जी के अनुसार इन नालों के गंदे पानी को साफ कर शुद्ध करना हमारा लक्ष्य है .
लेकिन नाले गंदे होने मेे सिर्फ पालिकाही नहीं बल्कि अवाम भी जिम्मेदार है . लोग उस बहते नाले के पानी में सामान , कचरा भी डाल देते है . इतना ही नहीं तो कुछ नालों में तो जानवरो , गाड़ियों को धोकर उसने मरे जानवर के शव भी डाले जाते है .पन घर के झुग्गी के संडास सिधे नाले में ही खोल दिए जाते है .आगे इस तरह का काम करनेवालो के खिलाफ बिएमसि दंड वसूली के साथ साथ सजा के प्रावधान का एक असरदार योजना बना रही है . वैसे इस तरह के खुले नालों के गंदे पानी से लोगों को खास कर झुग्गी वासियों को बीमारी से झूझना पड़ता हैं . इस कारण मुंबई वासियों मेे गंदे नालों के कारण महापालिका की छवि बुरी बनती हैं . वैसे हर साल करोड़ो रूपया इन नालों के सफाई की लिए खर्च होते है .फिर भी बारिश के दिनो में बीएमसी इसे लेकर बदनाम होती ही है .उससे बचने के लिए अब महापालिका ने कई नालों के इर्द गिर्द दीवार के रूप में सुरक्षा का कवच पहना दिया हैं .क्यू के उस उची दीवार से लोग अपने घर का कचरा नाले में नहीं डाल सकते .फिर बरसात के मौसम में नाले का पानी झुग्गी मेे नहीं बेहेगा . वैसे आनेवाले दिनों में बिएमसि आधुनिक तकनीकों का इस्तेमाल कर इसपर अच्छा काम करेगी ही पर हम आम शहरियो को भी शहर की गंदगी को साफ रखने में सरकार की मदत करनी चाहिए . जैसे के मुंबई के ही एक युवा मल्हार कलंबे ने मुंबई के बीचों से 4 हज़ार टन कचरा कर लोगो से वाह वाही लूटी है . जहां जहां बीएमसी के अफसरों का काम अच्छा होता है वहां की खबरे अखबारों के जरीए लोगो तक पहुंचाने के काम पर भी ध्यान देना चाहिए .ताकि बीएमसी के कामों की सराहना से लोगो मेे भी जागरूकता हो .

Leave A Reply

Your email address will not be published.