Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

शहर की तीसरी आंख सीसीटीवी कैमरे हुये अंधे

0 15

नरसिंहपुर /गाडरवारा। बुंदेलखंडी में एक कहावत है कि भरोसे की भैंस पडा बियानी जी हां इन दिनों यह कहावत गाडरवारा शहर में लगे सीसीटीवी कैमरों की दुर्दशा को दर्शाती है शहर में चप्पे – चप्पे पर नजर रखने वाली तीसरी आँख इन दिनों बीमार चल रही है । गाडरवारा शहर को तीसरी आंख से निगरानी के लिए जगह जगह मुख्य मार्गों व तिराहों पर जैंसे चीचली तिराहा , राठी तिराहा , झंडा चौक ,आमगांव नाका , सीसीटीवी कैमरा से लैस किया गया था । मगर सीसीटीवी कैमरा अब शोभा की वस्तु बनकर रह गया है । रखरखाव के अभाव मे शहर के मुख्य मार्गों पर लगे सीसीटीवी कैमरे दम तोड़ रहे हैं शहर की यातायात व्यवस्था इन दिनों मानो बेलगाम होती नजर आ रही है इन दिनों सुधार के लिए बस वैठकों ओर कागजों तक सिमट कर रह गया है विकास ।

शहर में लगे सीसीटीवी कैमरे बने शोभा की सुपारी

शहर में बढ़ रहे क्राइम की रोकथाम के लिए तीसरी आंख यानी सीसीटीवी कैमरा का भी महत्वपूर्ण रोल आज के इस आधुनिक युग में बन गया है । गाडरवारा शहर के कई स्थानों पर सीसीटीवी कैमरा लगाया गया था। जो कुछ दिनों तक चला । मगर इसके बाद इसकी सुधि किसी ने नहीं ली । लाखों रुपए की लागत से लगाया गया यह उपकरण सिर्फ शोभा की वस्तु मात्र रह गया । मरम्मत नहीं होने से ये कैमरे अब बेकार सावित हो रहे हैं । गाडरवारा शहर में अपराधों पर नियंत्रण करने हेतु अलग – अलग चौक पर सीसीटीवी कैमरे लगाये गये हैं, किन्तु इन कैमरों का कितना लाभ हो रहा है , इस बात से किसी को कोई लेनादेना नहीं है चौराहों पर जगह – जगह आये दिन कोई न कोई वारदात को अंजाम दिया जा रहा है ।

तत्कालीन अध्यक्ष महोदय की पहल पर सुरक्षा की दृष्टि से लगाये गए थे कैमरे

आपको बता दें तत्कालीन अध्यक्ष महोदय श्रीमती अनिता जायसवाल की पहल पर शहरवासियों की सुरक्षा को लेकर लगाए गए थे लेकिन शहर में लगे कैमरों की बदहाली ऐंसी की जनप्रतिनिधियों की मेहनत पर पानी फेरती नजर आ रहे है इस संबंध में किसी ने जानने की कोशिश कभी नहीं की कि इतने महंगे कैमरे लगे होने के बावजूद अपराधों पर कितना अंकुश लगा ? क्या ये कैमरे रात को घटित अपराध दुर्घटना को रोक सकते हैं ? क्या घटित घटना को यह कैद कर सकते हैं ? किसी वाहन से अगर दुर्घटना हो जाये तो क्या ये महंगे – महंगे कैमरे उन वाहनों का नंबर देख सकते हैं ? बन्द पड़े ये कैमरे नगर पालिका गाडरवारा को लाखों की चपत लगा रहे हैं एव इन कैमरों के इर्द गिर्द घूमने वाली अपने आप को सुरक्षित समझने वाली भोलीभाली जनता ये नही समझ रही कि अभी जो कैमरे में अपने आप को सुरक्षित महसूस कर रहे हैं वो बिल्कुल भी इस भरोसे ना बैठें ।

जनता की सुरक्षा को देखते हुए लगाए गए थे अब उनकी खुद की सुरक्षा कौन करेगा

चौराहों पर आए दिन घटनाएं रुकने का नाम ही नहीं ले रही वही दूसरी ओर प्रशासन की इस बड़ी लापरवाही के कारण कहि जनता को किसी दिन बड़ी मुसीबत का सामना ना करना पड़े । ज्ञात हो कि क्राइम की रोकथाम के लिए तीसरी आंख यानी सीसीटीवी कैमरा का भी महत्वपूर्ण रोल आज के इस आधुनिक युग में बन गया है । गाडरवारा शहर के कई स्थानों पर सीसीटीवी कैमरा लगाया गया था। जो कुछ दिनों तक चला । वाहन से अगर दुर्घटना हो जाये तो क्या ये महंगे – महंगे कैमरे उन वाहनों का नंबर देख सकते हैं ? बन्द पड़े ये कैमरे नगर पालिका गाडरवारा को लाखों की चपत लगा रहे हैं एव इन कैमरों के इर्द गिर्द घूमने वाली अपने आप को सुरक्षित समझने वाली भोलीभाली जनता ये नही समझ रही कि अभी जो कैमरे जनता की सुरक्षा को देखते हुए लगाए गए थे अब उनकी खुद की सुरक्षा कौन करेगा , चौराहों पर आए दिन घटनाएं रुकने का नाम ही नहीं ले रही वही दूसरी ओर प्रशासन की इस बड़ी लापरवाही के कारण कहि जनता को किसी दिन बड़ी मुसीबत का सामना ना करना पड़े ।

इनका कहना है -:

(1). शहर में लगे कैमरे बन्द है इस सम्बंध में मुख्य नगर पालिका अधिकारी गाडरवारा को कैमरों को सुधारने को कहा गया है ।

– सीताराम यादव एसडीओपी थाना गाडरवारा

(2). संबंधित अधिकारियों को शहर में खराब पड़े कैमरों के बारे में बताया जाएगा की वह जल्द से जल्द कैमरों का सुधार कार्य कराया जाए ताकि कोई घटना घटित ना हो सके ।

-श्रीमती सुनीता पटैल विधायक गाडरवारा

Leave A Reply

Your email address will not be published.