Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

शांति बेले की ड्यूटी हुई पूरी पर उनपे लगे भष्ट्राचार की कार्यवाही अधूरी

0 13

श्रीमती शांति बेले जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास उमरिया के रिटायरमेंट पर विशेष खबर
उमरियाा। श्रीमती शांति बेले जिला कार्यक्रम अधिकारी उमरिया की प्रथम नियुक्ति समाज कल्याण संचालनालय मध्यप्रदेश के आदेश क्रमांक /स्था/6/2000 भोपाल दिनांक 16 .4.1985 को पर्यवेक्षक प्रोढ़ शिक्षा के पद पर कार्यालय ग्रामीण क्रियात्मक परियोजना साक्षरता हरदा जिला होशंगाबाद मे हुई थी और आज दिनांक 30 जून 2020 को श्रीमती बेले रिटायर हो गई हैं सर्विस के दौरान श्रीमती बेले कई स्थानो मे पदस्थ रह चुकी है और इसी सर्विस के दौरान इन पर करोड़ों रुपए के घोटालों के आरोप लगे। जिसकी जांच श्रीमती बेले के रिटायरमेंट होने के बाद भी अभी तक जिला स्तर से शासन स्तर तक लंबित है।
श्रीमती बेले दिनांक 29.8.2017 को उमरिया मे जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास उमरिया के पद पर पदस्थ हुई थी श्रीमती शांति बेले पति दिनेश कुमार गोहे उम्र लगभग 62 वर्ष निवासी स्टेट बैंक के पीछे मुलताई जिला बैतूल मध्य प्रदेश की है जिन्होंने अपनी नौकरी कार्यकाल में जहां-जहां पदस्थ रही उनके काले कारनामों का चिट्ठा आप तक पहुंचाने का प्रयास कर रहे हैं कहते हैं कि किसी भी कार्य को परिणित करने के लिए अथक मेहनत से अवश्य ही सफलता कदम चूमती है और व्यक्ति को उस मुकाम पर पहुंचा देती है कि वह अपने हर सत्कर्म के माध्यम से ऊंचाई प्राप्त कर लेता है लेकिन थोड़ी सी गलती से मानव धरातल में किस तरह औंधे मुंह गिर जाता है उसे खुद भी पता नहीं चलता ।क्योंकि कहा गया है जैसा कर्म करेगा वैसा फल अवश्य मिलेगा।
हम आपको उपरोक्त बातों का आशय यह बताना चाहते हैं कि कर्म की गति टाले नहीं टलती उसका पीछा मनुष्य के मरने तक धर्मराज की दूत करते हैं। इसी तरह का काला कारनामा उमरिया जिले के महिला बाल विकास विभाग में पदस्थ दबंग महिला अधिकारी जो कि सदैव विवादों से घिरी रही और समाचारों की हेडलाइन बनती रही उन्हीं के काले चिट्ठे को हम आपके सामने उजागर कर रहे हैं।
जिसका प्रथम अध्याय यहां से प्रारंभ हो रहा है हम पाठकों से चाहते हैं कि अपनी पैनी नजर से उनके काले कारनामों को पढ़कर कर अभिमत अवश्य दें। भ्रष्टाचार व काले चिट्ठे का जन्म देने वाली दबंग लेडी के नाम से प्रसिद्ध महिला अधिकारी श्रीमती शांति बेले पर करोड़ों रूपये के भष्टाचार के आरोप सर्विस के दौरान नरसिंहपुर,हरदा और उमरिया जिले मे लग चुके है। नरसिंहपुर में रहते हुए श्रीमती बेले पर क्रय लापरवाही एवं अनियमितता के किए जाने तथा अनुदान राशि का सही भुगतान न होने पर दिनांक 10.8. 2006 को कार्यालय कमिश्नर ने शासन के आदेश पर निलंबित कर दिया था लेकिन उसके बाद भी इनके कारनामों पर विराम लगना तो दूर बल्कि दिन दूनी रात चौगुनी कार्यक्षमता के साथ धन बटोरने के स्वप्न दिन में ही देखना प्रारंभ कर दिए थी । जिला हरदा में रहते हुए भी इन पर कार्य कर्ताओं से अपशब्दों का प्रयोग करना, कार्यकर्ताओं से भवन किराया वसूला जाना ,मंगल दिवस की राशि वसूली जानी, लाडली लक्ष्मी योजना के चेक हेतु भी रुपयों की मांग करना ,आगनबाडी कार्यकर्ताओं को अवकाश देने के लिए भी राशि की वसूली किए जाने,एरियस व स्व सहायता समूह के लिए ₹1000 वसूले जाने ,व शाम को 6:00 बजे के बाद आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को कार्यालय में बुलाकर अपशब्दों का प्रयोग कर राशि मांगने की शिकायत कलेक्टर हरदा से लेकर शासन स्तर तक की गई थी जिसकी जांच शासन स्तर पर अभी भी लंबित है वही उमरिया जिले में पदस्थापना के दौरान इन पर आगनबाड़ी केंद्रों को चाइल्ड फ्रेंडली एवं आदर्श आंगनवाड़ी केंद्र बनाने , आगनबाडी में बिजली फिटिंग करवाने ,आदर्श आगनबाड़ी केंद्रों में तदर्थ समिति से कार्य न करवाने, सांझा चूल्हा स्वा सहायता की राशि के भुगतान देरी से करने, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना , स्नेह शिविर ,वाहनमद, स्वच्छता अभियान और बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना में भ्रष्टाचार किए जाने, प्रति आगनबाडी स्वा सहायता समूह से प्रतिमाह ₹500 लिए वसूला जाना,वन स्टॉप सेंटर में गलत तरीके से चयनित कर अन्यत्र जिले के लोगों से रूपये लेकर नियुक्ति करने व बाल शिक्षा केंद्र को गलत तरीके से चयनित कर रूपये का दुरुपयोग करना, कोरोना महामारी के दौरान आगनबाडी सेवाओं से संबंधित बच्चों व गर्भवती /धात्री महिलाओं को स्व सहायता समूह के माध्यम से गुणवत्ता युक्त रेडी टू ईट को पूरक पोषण आहार प्रदान किए जाने में भष्ट्राचार किया जाना व जिले में संचालित आंगनबाड़ियों केन्द्रो मे लगने वाले रजिस्टर मे घोटाला किए जाने की शिकायत कलेक्टर जिला उमरिया से की गई थी जिस पर कार्यवाही अधूरी लेकिन शांति बेले की डयूटी पूरी हो चुकी है।
शेष अगले अंक में……………

Leave A Reply

Your email address will not be published.