Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

एक दिन की सांकेतिक कलेक्टर बनीं अर्चना केवट

0 22

अति कम वजन के बच्चों पर विशेष फोकस करेंः कलेक्टर

कटनी दर्पण। अंर्तराष्ट्रीय महिला दिवस पर आज सांकेतिक रुप से एक दिन के लिए कैमोर क्षेत्र निवासी अर्चना केवट कलेक्टर बनीं। कलेक्ट्रेट पहुंचने पर अधिकारियों द्वारा उनका पुष्पगुच्छ के साथ उनका स्वागत किया गया है। अर्चना को एक दिन का कलेक्टर बनाने का निर्णय जिला प्रशासन द्वारा महिला सशक्तिकरण के प्रति जनजागरुकता के मद्धेनजर लिया गया था। एक दिन का सांकेतिक रुप से कलेक्टर बनने के कलेक्टर अर्चना केवट जिला पंचायत कार्यालय पहुंची। यहां कलेक्टर प्रियंक मिश्रा, पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी, सीईओ जिला पंचायत जगदीश चन्द्र गोमे नेे पुष्पगुच्छ भेंटकर उनका स्वागत किया, इसके उपरांत उन्होंने जिला पंचायत सभागार में टीएल की मीटिंग में विभिन्न विभागों की गतिविधियों, कार्यक्रमों व योजनाओं की समीक्षा कलेक्टर अर्चना केवट ने ली। जिसमें महिला बाल विकास विभाग द्वारा संचालित गतिविधियों का विस्तृत रिव्यू प्रेजेटेशन के माध्यम से प्रस्तुत किया गया। साथ ही योजनाओं से लाभान्व्ति हितग्राहियों की जानकारी भी इस दौरान बैठक में दी गई। कलेक्टर ने बैठक में विभिन्न विभागों का रिव्यू करने के साथ ही आवश्यक निर्देश भी दिए।
सांकेतिक रूप से एक दिन के लिए कलेक्टर बनीं अर्चना केवट ने जिले में अति कम वजन के बच्चों पर विशेष फोकस करने के निर्देश महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों को दिए। इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग, जिला उद्योग एवं व्यापार केन्द्र, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा संचालित योजनाओं की भी समीक्षा की। उन्होंने सीएमएचओ से जिला चिकित्सालय में संचालित एनआरसी एवं स्व-सहायता समूह की जानकारी भी ली।
बैठक में कलेक्टर ने संचालित आंगनबाड़ी केन्द्र एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता/ सहायिका / मिनी कार्यकर्ताओं के भरे, रिक्त पदों की परियोजनावार जानकारी, वजन किये बच्चों एवं पोषण स्तर के वर्गीकरण की स्थिति, कुपोषित बच्चों में वजन सुधार की स्थिति (माह जनवरी 2021 ), बच्चों की पोषण स्थिति-बच्चों की ऊचाई के आधार पर पोषण स्थिति, पोषण पुर्नवास केन्द्र (माह-जनवरी 2021), पूरक पोषण आहार के हितग्राही माह-जनवरी-2021, सांझा चूल्हा कार्यक्रम (आर0टी0ई) एवं टी.एच.आर की जानकारी, समुदाय के सहयोग से बाल भोज के आयोजन की जानकारी, आंगनबाड़ी भवन की स्थिति, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना लक्ष्य पूर्ति, लाड़ली लक्ष्मी योजना वित्तीय वर्ष 2020-21 में तैयार नवीन प्रकरण, बाल शिक्षा केन्द्र, आर्दश आंगनबाड़ी केन्द्र, बाल शिक्षा केन्दों हेतु आई.एसव.ओ. सर्टिफिकेट प्राप्त करने की जानकारी, किचन गार्डन, जिले में संचालित बाल देख रेख संस्थाओं के संचालन की समीक्षा, वन स्टॉप सेंटर के संचालन की समीक्षा और जिले में किये जा रहे विशेष नवाचारों का विस्तार से रिव्यू किया।
महिला एवं पुरुष एक गाड़ी के दो पहिए
            कलेक्टर अर्चना केवट ने कहा कि पुरूष और महिला एक गाड़ी के दो पहिए हैं। जिस तरह एक पहिए से गाड़ी नहीं चल सकती, उसी तरह महिला के बिना पुरूष और पुरूष के बिना महिला का अस्तित्व नहीं है। आज महिलाएं किसी से पीछे नहीं हैं और पुरूषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं।
टीएल की बैठक में कलेक्टर प्रियंक मिश्रा, एसपी मयंक अवस्थी, जिला पंचायत के सीईओ जगदीश चंद्र गोमे, एसडीएम बलवीर रमन, एसडीएम विजयराघवगढ़ प्रिया चंद्रावत, महिला बाल विकास अधिकारी नयन सिंह, महिला सशक्तिकरण अधिकारी वनश्री कुर्वेती आदि की उपस्थिति रही।

Leave A Reply

Your email address will not be published.