Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

ग्रामीणों ने शुरू किया स्वच्‍छता अभियान

0 29

आकाशकोट के ग्रामीणों की सामुदायिक पहल

जल स्रोतों की व गलियों की साफ सफाई के लिए मिलकर किया श्रमदान

उमरिया। जिले के करकेली जनपद पंचायत अंतर्गत मैकल पर्वत श्रेणियों में बसे आकाश कोट के 4 गांव, कटरिया, बाजाकुंड, करौंदी एवं बिरहुलिया के ग्रामीणों ने एक साथ मिलकर के गांव के पारंपरिक जल स्रोतों व सभी मोहल्लों की गलियों सड़कों की साफ-सफाई व मरम्मत की अनोखी पहल की शुरुआत की है । 4 गांव के 235 परिवारों के ढाई सौ से अधिक महिला पुरुषों ने मिलकर गांव के सभी मोहल्ले की साफ-सफाई की । रास्तों में जहां-जहां बरसात के समय पानी के बहाव के कारण कटाव , गड्ढे हो गए थे वहां मुरूम से मरम्मत किया गया । साथ ही 8 हैंड पंप के पास साफ-सफाई व सोख्ता गड्ढा बनाया गया । 6 तालाबों की साफ-सफाई की गई व 3 झिरियों को उपयोग लायक बनाया गया । 9 कुओं के आसपास साफ-साफ जल निकासी व सोख्ता गड्ढा बनाया । दस्तक महिला एवं युवा समूहों की अगुआई में चलाए जा रहे इस अभियान को विकास संवाद समिति भोपाल “गूंज” व स्थानिय सामाजिक संस्था जेनिथ यूथ फाउंडेशन का सहयोग है ।
ज्ञात हो कि आकाश कोट के 8 पंचायतों के 25 गांव में विकास संवाद भोपाल के सहयोग से स्थानीय संस्था जेनिथ यूथ फाउंडेशन द्वारा सामुदायिक निगरानी प्रक्रिया को मजबूत बना कर, वंचित परिवारों की खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करते हुए कुपोषण को दूर करने का प्रयास किया जा रहा है। जिसको दस्तक परियोजना का नाम दिया गया है । कटरिया, बाजाकुंड, करौंदी एवं बिरहुलिया में किये जा रहे प्रयास की रूप – रेखा उक्त दस्तक महिला समूह के बैठक में तैयार हुई है ।
कार्यक्रमों के बारे में बताते हुए जेनिथ यूथ फाउंडेशन के सचिव विरेंद्र कुमार गौतम ने बताया कि हमारी संस्था लंबे समय से इस काम मे लगी है कि अपने विकास के तमाम योजनाओं की निगरानी व नेतृत्व की जिम्मेवारी समुदाय स्वयं उठाए । ताकि उक्त योजनाओं एवं कार्यक्रमों में गुणवत्ता व पारदर्शिता आए, साथ ही सामुदायिक निगरानी प्रक्रिया संचालित हो। भूख व कुपोषण की समस्या को जड़ से मिटाया जा सके । उन्होंने लोगों को इस अभियान से जुड़ने के लिए भी निवेदन किया है ।
कार्यक्रम में संपत नामदेव, भूपेंद्र त्रिपाठी, कमलभान सिंह, वृंदावन सिंह , भगत सिंह, फूलबाई,नगीना सिंह ,रानकी सिंह सहित बृजभान सिहं, मोहन सिहं, करन सिहं, अवधराज सिहं, गिरवर सिहं ,संतोष सिहं, बलदेव सिंह, सुभद्रा सिहं, बेला सिहं, केमती सिहं विद्या सिहं सरिता सिहं, देवकी सिहं, सरोज बाई, जानकी बाई, पानबाई, ममता बाई, शांति बाई आदि का सक्रिय सहयोग रहा ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.