Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

चिटफंड कंपनियों, सूदखोरों और गृह निर्माण सहकारी समितियों की मिली शिकायतों पर सख्त कार्यवाही करेंः कलेक्टर

0 22

समय सीमा प्रकरणों की समीक्षा बैठक में कलेक्टर के निर्देश

जबलपुर, 09 मार्च, 2020  समय सीमा प्रकरणों की आज सोमवार को आयोजित साप्ताहिक समीक्षा बैठक में कलेक्टर भरत यादव ने नागरिकों के साथ धोखाधड़ी करने वाली चिटफण्ड कम्पनियों,  गृहनिर्माण सहकारी समितियों एवं सूदखोरों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई और एफ आई आर दर्ज कराने के निर्देश दिए हैं । श्री यादव ने कहा कि चिटफंड कंपनियों, सूदखोरों और धोखाधड़ी करने वाली गृह निर्माण समितियों के पदाधिकारियों की चल-अचल संपत्ति और बैंक खातों की पड़ताल की जाये और इन्हें भी सीज किया जाये ताकि धोखाधड़ी के शिकार हुए निवेशकों को उनकी राशि वापस दिलाई जा सके ।         कलेक्टर ने बैठक में सीएम हेल्पलाइन से प्राप्त शिकायतों के निराकरण में ततपरता बरतने की हिदायत देते हुए अधिकारियों से कहा कि  शिकायतों का एल – वन स्तर पर ही और शिकायतकर्त्ता की सन्तुष्टि के साथ ही निराकृत हों इसे सर्वोच्च प्राथमिकता देनी होगी  । श्री यादव ने जिला अधिकारियों को सीएम हेल्पलाइन से प्राप्त शिकायतों के निराकरण में लापरवाही बरतने वाले अधीनस्थ अधिकारियों पर कार्यवाही प्रस्तावित करने के निर्देश दिये । उन्होंने 100 दिन से लंबित सीएम हेल्पलाइन की शिकायतों के निराकरण को सर्वोच्च प्राथमिकता देने के निर्देश भी दिये ।           बैठक में खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत सभी श्रेणी के पात्रतापर्ची धारी परिवारों के सर्वे का शेष बचा काम पाँच-छह दिनों के भीतर पूरा करने के निर्देश दिए गए । कलेक्टर ने जिला अधिकारियों की तैनाती के  बावजूद जबलपुर शहर में सर्वे की स्थिति में अपेक्षित सुधार नहीं होने पर अप्रसन्नता व्यक्त की । अधिकारियों द्वारा दर्ज पते पर हितग्राहियो के न मिलने से सर्वे में आ रही कठिनाई का जिक्र करने पर श्री यादव ने ऐसे लोंगो के नाम सूची से काटने की कार्यवाही करने के निर्देश दिये जो निर्धारित पते या स्थान पर नहीं मिल रहे हैं ।          

 कलेक्टर ने बैठक में मौजूद नगर निगम के अधिकारियों को शहर में पीडीएस सर्वे के लिए तैनात  जिला अधिकारियों को पूरा सहयोग करने के सख्त निर्देश दिए हैं । उन्होंने कहा कि सर्वे का दायित्व नगर निगम के अमले का था लेकिन उनके रुचि नहीं लेने की वजह से ही  इस काम में अलग-अलग शासकीय विभागों के जिला अधिकारियों को लगाना पड़ा है । श्री यादव ने कहा कि पीडीएस सर्वे में सहयोग नहीं करने वाले निगम के कर्मचारियों – अधिकारियों पर सीधे कार्यवाही की जाएगी । कलेक्टर ने खाद्य विभाग के अधिकारियों को भी पीडीएस सर्वे के लिये तैनात जिला अधिकारियों को सहयोग प्रदान करने के निर्देश दिए ।          

कलेक्टर ने समय सीमा प्रकरणों की समीक्षा बैठक में धान उपार्जन  के दौरान खराब गुणवत्ता की खरीदी गई धान का समितियों के माध्यम से शीघ्र निराकरण करने के निर्देश भी बैठक में दिए । उन्होंने कहा कि अपग्रेड करने योग्य धान को 15 मार्च तक सुधार लिया जाए तथा 20 मार्च तक किसानों को भुगतान की प्रक्रिया पूरी कर ली जाए । कलेक्टर ने गेहूं के उपार्जन के लिये पंजीयन कराने वाले किसानो के सत्यापन की प्रक्रिया समय पर पूरी करने के निर्देश दिये । उन्होंने खरीदी प्रारम्भ होने के पहले गेहूँ उपार्जन की सभी व्यवस्थाएं कर लेने की हिदायत भी अधिकारियों को दी ।  श्री यादव ने बैठक में राजस्व प्रकरणों के निराकरण और राजस्व वसूली की स्थिति की समीक्षा भी बैठक में की । उन्होंने राजस्व वसूली सहित आरआरसी,  बैंक ऋण और रेरा के प्रकरणों में वसूली के लिए भी और सख्ती बरतने के निर्देश दिए । उन्होंने खास तौर पर बड़े बकायादारों के विरुद्ध वसूली की कार्यवाही पर ज्यादा जोर दिया । कलेक्टर ने राजस्व प्रकरणों के निराकरण को गति देने के निर्देश देते हुए कहा कि ग्रामीण क्षेत्र के उनके निरीक्षण के दौरान यदि फौती नामांतरण, सीमांकन और बंटबारा के प्रकरण लम्बित पाए गए तो सम्बन्धित नायब तहसीलदार और तहसीलदार पर कार्यवाही की जाएगी । उन्होंने 30 सितम्बर तक दर्ज  राजस्व  प्रकरणों का मार्च माह के अंत तक निराकरण कर लेने की हिदायत दी ।                           कलेक्टर ने त्यौहारों के पहले सार्वजनिक वितरण प्रणाली के उपभोक्ताओं को खाद्यान्न उपलब्ध कराने के दिये गए निर्देशों के मुताबिक शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में उचित मूल्य दुकानों को कल मंगलवार को भी खुला रखने और उपभोक्ताओं को खाद्यान्न का वितरण कराने की बात कही ।           कलेक्टर ने पंचायतों के खत्म हो रहे कार्यकाल के मद्देनजर  वैकल्पिक व्यवस्था होने तक ग्राम पंचायतों के कामकाज के संचालन हेतु  प्रशासकीय समितियों का गठन करने तथा सरपंचों के हस्ताक्षर से राशि के आहरण  पर रोक लगाने के निर्देश दिए हैं ।           

कलेक्टर ने बैठक में होली के त्यौहार के मद्देनजर लागू किये गए प्रतिबंधात्मक आदेशों का कड़ाई से पालन कराने की हिदायत सभी एसडीएम को दी । उन्होंने होली के दौरान कानून व्यवस्था बनाये रखने सभी एसडीएम को अपने-अपने क्षेत्र का भ्रमण करने के निर्देश भी दिए । श्री यादव ने धुरेड़ी के दिन नर्मदा तटों एवं घाटों पर होमगार्ड के गोताखोर, नावें तैनात रखने के निर्देश भी दिये ताकि कोई अप्रिय दुर्घटना न हो । उन्होंने नागरिकों से भी होली के दौरान सतर्कता बरतने और प्राकृतिक रंगों से ही होली खेलने का आग्रह बैठक के माध्यम से किया । बैठक में अपर कलेक्टर हर्ष दीक्षित, अपर कलेक्टर संदीप जीआर एवं अपर कलेक्टर व्ही पी द्विवेदी भी मौजूद थे ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.