Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.
Browsing Category

राजनीति दर्पण

साईं आनंद जन कल्याण समिति की जरूरतमंदों तक पहुंच

जबलपुर। कोरोना बीमारी में लॉकडाउन के चलते,अभी भी बहुत से लोग ऐसे हैं। जो अपने घरों से दूर हैं और रोजी रोटी कमा रहे हैं। लेकिन अब उनके लिए भोजन के साधन, उसने सुलभ और सस्ते नहीं रह गए हैं। जितने कि पहले…

रामनवमी पर किया गया मास्क और प्रसाद का वितरण।

कोविड-19 कि इन विषम परिस्थितियों में, लोगों को भगवान के नाम का ही एक सहारा है। आज मौका था, मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री रामचंद्र के प्रकट उत्सव का। बंदिशों में ही सही, लोगों ने प्रभु को याद किया और…

बाबा साहब के विचारों पर आगे बढ़ रही भाजपा :- अरविंद भदौरिया

डॉ भीमराव अंबेडकर की जयंती पर भाजपा की पुष्पांजलि जबलपुर। संविधान निर्माता डॉ बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की जयंती पर नगर नगर ने श्रद्धांजलि।भारत रत्न डॉ भीमराव अंबेडकर की जयंती पर भारतीय जनता

विषम परिस्थिति में जल की बूंद भी कीमती है।

पनागर क्षेत्र में पानी के टैंकरों से पहुंचाएंंगे राहत।जबलपुर। जल ही जीवन है, गर्मी का प्रकोप शुरू हो गया है और शहर में जल संकट भी एक बड़ी समस्या बन जाता है इस समस्या से निपटने के लिए जनप्रतिनिधियों

कोरोना से लड़ाई में, प्रशासन के साथ सभी, कदम मिलाकर चलें।

लोगों के बीच मास्क और सैनिटाइजर का वितरण। जबलपुर। साल 2021 में एक बार फिर, कोविड-19 वायरस, लोगों के बीच भय का कारण बन रहा है। तेज गति से फैल रहे संक्रमण से लड़ने के लिए, जहां एक ओर, पुलिस प्रशासन

कर्मचारी राज्य बीमा निगम के प्रतिनिधियों ने अस्पतालों का दौरा

जबलपुर दर्पण। ऑल इंडिया डिफेंस एम्पलाइज फेडरेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष एसएन पाठक ने बताया रक्षा मंत्रालय के ऑडनेंस फैक्ट्रीयों के निगमीकरण के खिलाफ अनिश्चितकालीन हड़ताल के समझौते का पालन न करते हुए

विकास के पथ पर निरंतर चल रही पाटन विधानसभा।
कमलनाथ सरकार का था एक ही नारा विकास का छिंदवाड़ा मॉडल।

जबलपुर। साल 2018 के चुनाव में भारतीय जनता पार्टी विपक्ष में थी और कांग्रेस की सरकार बनी इसके बाद साल 2020 में कांग्रेस की सरकार गिर गई और एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी की सरकार सत्ता में आई।कांग्रेस

लोकतंत्र के सम्मान में कांग्रेसी उत्तरी मैदान में।

कांग्रेसियों ने निकाली तिरंगा यात्रा। जबलपुर। विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र और सबसे मजबूत जनतंत्र होने के नाते भारत के लोकतंत्र की चुनौतियां भी कम नहीं है। हमारे देश में अलग-अलग जाति धर्म